अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ग्राम सभा को सशक्त बनाने पर जोर

भारत जन आंदोलन के जॉर्ज मोनीपली ने कहा कि वनाधिकार कानून पट्टा बांटने का कानून नहीं, बल्कि जंगल पर अधिकार की मान्यता का कानून है। ग्राम सभा को सामुदायिक अधिकार की मांग करनी चाहिए।ड्ढr वह वनाधिकार कानून और उसके अमल के तरीके विषयक सेमिनार में बोल रहे थे। इसका आयोजन शुक्रवार को जुड़ाव द्वारा विकास मैत्री सभागार में किया गया था। उन्होंने कहा कि नियमावली है पर राज्य में इसके अनुपालन की गति धीमी है।ड्ढr झारखंड जंगल बचाओ आंदोलन के सक्रिय कार्यकर्ता जेवियर कुाूर ने कहा कि वन विभाग जंगल पर गांव के प्रबंधन की बात स्वीकार नहीं करना चाहता। डॉ रो केरकेट्टा ने कहा कि ग्राम सभा को सशक्त बनाना होगा। सेमिनार में अधिवक्ता रश्मि कात्यायन, अरण्य मित्र की समन्वयक सीमा, श्रावणी, रोालिया तिर्की, कुदरुला कुाूर, शशि बारला, मनोरांन, रामदेव विश्वबंधु, अशर्फी नंद प्रसाद, सुनील मिंज, वंदना टेटे सहित कई लोग उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ग्राम सभा को सशक्त बनाने पर जोर