DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अखिल अब भी निराश, सुरंजय और दिनेश को भाया खेलगांव

अखिल अब भी निराश, सुरंजय और दिनेश को भाया खेलगांव

भारतीय अनुभवी मुक्केबाज अखिल कुमार राष्ट्रमंडल खेल गांव में अपने कमरे में पलंग टूटने की घटना से अब भी निराश हैं लेकिन दल के साथी मुक्केबाज सुरंजय सिंह और दिनेश कुमार ने खेल गांव को हरी जंडी देते हुए कहा कि यहां की सुविधाएं बढ़िया हैं।

दिल्ली राष्ट्रमंडल खेलों की खराब तैयारियों से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर देश की छवि पर निश्चित रूप से असर पड़ा है लेकिन अब भारत अंतिम समय में इन खेलों को सफल बनाने के लिए अपनी सर्वश्रेष्ठ कोशिश में जुटा है। भारतीय मुक्केबाजी संघ के उपाध्यक्ष भूपिंदर सिंह ने भी स्वीकार किया कि अखिल का बेड टूटा हुआ था और अब कोई दिक्कत वाली बात नहीं है।

उन्होंने कहा कि अखिल का बेड टूटा था, लेकिन उसे तुरंत रात में ही बदलवा दिया गया। अब कोई परेशानी नहीं है। मैंने देखा कि चैनलों पर उसे चोट लगने की खबरें आ रही हैं, उसे कोई चोट नहीं लगी। वह बिलकुल ठीक है। उन्होंने कहा कि हमें छोटी-छोटी बातों पर ध्यान नहीं देना चाहिए। बेड टूटा था तो इसे बदलवा दिया गया। इसमें कोई परेशानी नहीं है, इसे तिल का ताड़ नहीं बनाना चाहिए।
 
वर्ष 2008 में मास्को में विश्व कप में कांस्य पदक जीतने वाले दिनेश कुमार (81 किग्रा) ने खेल गांव को चीन में हुए बीजिंग ओलंपिक खेलों से अच्छा करार किया। अखिल ने कहा कि मेरे जूनियर मुक्केबाजों ने मेरा बेड बदलने में मदद की। मैं इस घटना से निराश हूं।
 
दिनेश बीजिंग ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि मुझे यह शानदार लग रहा है। हालांकि कुछ ब्लाक में काम चल रहा है किन्तु हमारे कमरे बढ़िया हैं। एक दो मच्छर जरूर दिख रहे हैं, लेकिन इसके लिए मास्किटो रेपलेंट भी दी गई हैं इसलिए कोई समस्या नहीं है।
 
उन्होंने कहा कि मुझे तो यह चीन में हुए बीजिंग ओलंपिक से भी अधिक शानदार लग रहा है। अभी तक जो हुआ, उसे भूलकर मैं इन खेलों को सफल बनाना चाहता हूं। मैं खेलों में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करूंगा।

छोटा टायसन के नाम से मशहूर मणिपुर के मुक्केबाज सुरंजय ने कहा कि मुझे खेल गांव अच्छा लग रहा है, सारी सुविधायें भी अच्छी हैं। मैं पहले भी बहुत सारी अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं के लिए विदेश जा चुका हूं, जहां हमें विश्वविद्यालय कैंपस में ठहराया गया था। लेकिन मुझे यह खेल गांव अच्छा लग रहा है और मैं देशवासियों से अपील करना चाहता हूं कि वे इन्हें सफल बनाने में मदद करें।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अखिल अब भी निराश, सुरंजय और दिनेश को भाया खेलगांव