DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हटाए जाएंगे जमे अफसर

विगत चार वर्षो में तीन साल एक ही जिले में बिता चुके चुनाव कार्य से संबंधित प्रशासनिक और पुलिस अफसर बदले जाएंगे। लोकसभा चुनाव के मद्देनजर चुनाव आयोग ने यह निर्देश जारी किया है। इस दायर में जिलाधिकारी से लेकर पुलिस के सार्जेट मेजर स्तर तक के अफसर आएंगे। चाहे अलग-अलग पदों पर रहते हुए ही उन्होंने एक ही जिले में तीन साल क्यों न बिताए हों। आयोग ने निर्वाचन विभाग को तत्काल ऐसे अफसरों की सूची तैयार करने का निर्देश दिया है। इसके अलावा आयोग ने गृह जिले में पदस्थापित अफसरों को भी हटाने का निर्देश दिया है। दूसरी ओर एक ही जिले में तीन साल बिता चुके अफसरों की सूची बनी तो सबसे अधिक गाज पटना जिले के पुलिस वालों पर ही गिरगी।ड्ढr ड्ढr लगभग 0 फीसदी थाना प्रभारी ऐसे हैं जो पिछले कई वर्षो से पटना जिले में ही सिर्फ थाना बदल रहे हैं। आयोग के इस निर्देश के बाबत पूछे जाने पर डीएम पटना जितेन्द्र कुमार सिन्हा ने बताया कि जिले में डिप्टी कलक्टर स्तर के करीब आधा दर्जन अधिकारी इस दायर में आएंगे। हालांकि उन्होंने नाम बताने में असमर्थता जाहिर की। उन्होंने कहा कि बीडोओ स्तर के पदाधिकारियों को मतदाता सूची का काम पूरा होने के बाद बदल दिया जाएगा। इतना ही नहीं करीब आधा दर्जन से अधिक डीएसपी भी इस लपेटे में आ सकते हैं। सूत्रों के अनुसार डीएसपी (विधि-व्यवस्था) कुमार अमर सिंह, सचिवालय डीएसपी श्रीधर मंडल, सदर डीएसपी विवेकानंद मंडल, मसौढ़ी डीएसपी सशील कुमार के अलावा पटना में तैनात तीन ट्रैफिक डीएसपी भी हैं। सूत्रों के अनुसार पटना जिला के 76 थानों के प्रभारियों में से अधिसंख्य प्रभारियों के सिर्फ थाने ही बदलते रहे हैं। कंकड़बाग थाना प्रभारी अभयनारायण सिंह, बुद्धा कॉलोनी के थाना प्रभारी गौरीशंकर सिंह, आलमगंज के के.के.सिंह, दीघा के एन.के.सिंह, गांधी मैदान के निसार अहमद, गर्दनीबाग के शिवाजी प्रसाद, जक्कनपुर के जे.पी.राय, कदमकुआं के अजय कुमार, खाजेकलां के बच्चा सिंह, कोतवाली के मुंद्रिका प्रसाद, शास्त्रीनगर के कामोद प्रसाद, नौबपुर के डी. सी. श्रीवास्तव, पाटलिपुत्र के सुनील कुमार, सुल्तानगंज के पी.एन.उपाध्याय सहित दर्जनों ऐसे चर्चित थाना प्रभारी हैं जिनके तीन साल तक एक ही जिले में रहने का अनुमान है।ड्ढr ड्ढr निर्वाचन विभाग के सूत्रों के अनुसार इस दायर में जिलाधिकारी, सहायक निर्वाचन पदाधिकारी, अपर जिला दंडाधिकारी, एसडीओ, कार्यपालक दंडाधिकारी, बीडीओ, सीओ, जोनल आईजी, डीआईजी, एसएसपी, एसपी, एएसपी, डीएसपी, एसडीओ, इंस्पेक्टर, थाना प्रभारी, सार्जेट मेजर आदि शामिल हैं।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: हटाए जाएंगे जमे अफसर