DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रूस में पेशेवरों का वेतन सीमित करने के पक्ष में पुतिन

रूस के प्रधानमंत्री व्लादिमीर पुतिन ने कर्मचारियों की तनख्वाह सीमित करने के लिए कदम उठाने पर बल देते हुए आगाह किया है ऐसा नहीं होने पर आउटसोर्सिंग ठेके में रूस, भारत एवं चीन जैसे बाजारों से मात खा सकता है।

पुतिन ने पश्चिमी यूरोपीय देशों के अनुभवों का रूस में दोहराव की संभावना पर चिंता जताया। पश्चिमी यूरोपीय देश विनिर्माण गतिविधियां अन्य देशों में भेज रहे हैं जिसकी वजह अधिक वेतन का होना है।
   
उन्होंने कहा कि सरकार और ट्रेड यूनियनों को वेतन के मुद्दे पर बातचीत करना चाहिए। रूस में पश्चिम यूरोपीय देशों के अनुभवों का दोहराव होने की आशंका है। पुतिन ने चेतावनी दी कि जल्द ही सबकुछ यहां तक कि उच्च प्रौद्योगिकी का उत्पादन भी चीन एवं भारत में चला जाएगा क्योंकि इन देशों में श्रम की लागत तुलना से परे हैं।

उन्होंने बेरोजगारी भत्ते में और बढ़ोतरी के खिलाफ भी चेतावनी दी। रूस में पाया गया कि बहुत से लोग कामचोरी के लिए इन भत्तों का दुरुपयोग करते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रूस में वेतन सीमित करने के पक्ष में पुतिन