DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तन पर छाएंगी कंप्यूटरी पोशाकें

दैनिक कार्यो में इस्तेमाल होने वाला कंप्यूटर अब धीरे-धीरे कपड़ों में भी आ पहुंचा है। चौंकिए मत.. दरअसल, कंप्यूटर की सुविधाओं से लैस यह कपड़े मौसम के हिसाब से आपके शरीर को आराम देंगे। हालिया सफल प्रयोगों से यह साबित भी हुआ है। तो इंतजार कीजिए ऐसे कपड़ों का जो मौसमी मार से आपको बचाएंगे, लेकिन साथ ही परिधान के पारंपरिक मतलब का भी ध्यान रखेंगे।

ब्रिटेन में पिछले दिनों रैम्प पर ऐसे मॉडल चले जिनके तन पर विशेष प्रकार के कंप्यूटर सजे हुए थे। निर्माता कंपनी का दावा है कि आने वाले दिनों में टॉप गारमेंट्स ही नहीं अंडर गारमेंट्स भी कंप्यूटरीकृत होंगे जो खूबसूरती के साथ साथ सूचना, मनोरंजन और ताप नियंत्रण का भी प्रभावी कार्य करेंगे।
सूचना महामार्ग पर सरपट दौड़ता कंप्यूटर अब इतराता, इठलाता पोशाक बन शरीर का शोध भी बढ़ा रहा है। पिछले दिनों इसी कंप्यूटर को पहन खूबसूरत ‘अंग्रेज बालाएं’ रैम्प पर उतरीं। ब्रिटेन में आयोजित इस अनोखे फैशन शो की खासियत यह थी कि हर बाला कंप्यूटर पोशाक पहन न केवल अदा दिखा रही थी बल्कि कंप्यूटर से जुड़े क्रिया कलाप भी प्रदर्शित कर रही थी। कंप्यूटर पहनावा न केवल आयोजकों को बल्कि दर्शकों को भी लुभा रहा था।

इक हो गए हम और तुम
असल में किसी भी चीज में पूरी तरह से रम जाने, खो जाने के लिए कहा जाता है कि तन मन से उसके हो गए। एक हो गए और छा गए। ऐसा ही कुछ हाल कंप्यूटर के साथ भी हो चला है। कंप्यूटर और कंप्यूटर आधारित वस्तुएं हमारे जीवन में आ जुड़ी हैं और पूरा का पूरा मानव कंप्यूटरीकृत हो चला है। न्यूयार्क की एक साइबर से जुड़ी कंपनी स्टीफन फिच ऑफ एमआईटी मीडिया लैब द्वारा एक ऐसा कंप्यूटर तैयार कर लिया गया है जो शरीर पर बतौर पोशाक पहना जाएगा। इसे चलन में लाने के लिए ही ब्रिटेन की नामी गिरामी मॉडल्स ने एक तकनीकी कंप्यूटर फैशन शो प्रस्तुत किया।
स्टीफन फिच ऑफ एमआईटी मीडिया लैब द्वारा चमड़े की जैकेट के साथ साथ कंप्यूटर लाइनिंग लगा डाली है। अत्यंत सूक्ष्म चिप पर आधारित इस चलते-फिरते कंप्यूटर की स्क्रीन मात्र छह इंची है। यह न समझिए कि यह कंप्यूटर कोई खिलौना है, इसमें संवेदी उपकरण लगे हैं। प्रोसेसर के साथ माइक्रो हाई ड्राइव भी जुड़ी हुई है। रोचक बात है कि यह सभी सुविधाएं जैकेटी कंप्यूटर की हर वो सुविधा प्रदर्शित की जा सकती है जो आप अपने बंद कमरे में रखे कंप्यूटर पर इंटरनेट से प्राप्त कर सकते हैं।

विज्ञापन की दुनिया में क्रांति
सरे राह चलते कंप्यूटर को देख अब चौंकिए नहीं कि ‘वो देखो कंप्यूटर चल रहा है।’ अब वाकई यह मूविंग कंप्यूटर बनी पोशाकें विज्ञापन की दुनिया में क्रांति का नया अध्याय जोड़ेंगी। इस अनोखे जैकेटी चलते-फिरते कंप्यूटर का निर्माण यों ही नहीं हुआ है बल्कि इसके पीछे व्यवसाय का एक बड़ा मुद्दा जुड़ा हुआ है। बतौर परीक्षण ब्रिटेन में इस पर फिल्म का विज्ञापन किया गया। लोगों ने चलते फिरते व्यक्ति के तन पर फिल्म का ट्रेलर देखा। विज्ञापन की इस नई विधा ने लोगों को चौंकाया और आकर्षित भी किया। लोगों के लिए जहां यह कौतुहल का केन्द्र थी वहीं ईकोफ्रैंडली भी थी। इसमें किसी भी प्रकार के ईंधन का प्रयोग नहीं हुआ, स्वयं चलता-फिरता इंसान कंप्यूटर पहने सहज विज्ञापन कर रहा था।
निर्माताओं का दावा है कि विज्ञापन के क्षेत्र में यह आधुनिक तरीका अब तक के सभी तरीकों से न केवल अलग है बल्कि प्रभावी और सहजग्राही भी है। आने वाले समय में टीवी विज्ञापन, म्यूजिक वीडियो, मुख्य समाचार, नए उत्पाद, फिल्मों के ट्रेलर के अलावा अन्य कई महत्वपूर्ण सूचनाएं भी चलते फिरते कंप्यूटर पर आ पहुंचेंगी। यही नहीं, उस पर रेलवे विज्ञापन के तहत गाड़ियों के आने जाने, देरी, बुकिंग जैसी सूचनाएं भी दी जा सकेंगी।

पूरी पोशाक मोबाइल होगी
इसी श्रृंखला में पिछले दिनों ब्रिटेन के वैज्ञानिकों ने ऐसी पोशाक तैयार की जो मोबाइल का काम करती है। यहां के जाने-माने पोशाक ब्रांड ‘क्यूट सर्किट’ ने इसे अपनाते हुए ‘मोबाइली ड्रेस’ बना भी डाली है। एम-ड्रैस नामक इस अनोखी पोशाक में जेस्चर रिकगनिशन सॉफ्टवेयर लगाया गया है जो इसके सिरों को मोबाइल में बदल देता है। ज्यों ही ड्रेस पहने व्यक्ति कान के पास आगे की पोशाक चढ़ी तीन उंगलियां ले जाता है, मोबाइल सक्रिय हो जाता है और हटाते ही कट जाता है। ड्रैस की बांह में एक सिम लगा है जिसे ऊपर नीचे खिसकाने से नम्बर मिलाना संभव होता है। नेटवर्क पकड़ने के लिए घुटने के पास एक एंटीना लगा है। निर्माताओं का दावा है कि यह ‘मोबाइली पोशाक परीक्षणों से पूरी तरह से पास हो गई है और वर्ष 2011 में ब्रिटेन के बाजारों में सज जाएगी।’

बैटरी का काम करेगी टी शर्ट
जब शरीर पर कंप्यूटर पहने जाएंगे, मोबाइल चलेंगे तो जरूरत पड़ेगी प्रभावी मगर बेहद हल्की बैटरी की। इस समस्या का तोड़ अमेरिका की यूनिवर्सिटी द्वारा निकाल लिया गया है। यहां के वैज्ञानिकों की टोली ने सामान्य कपड़े को प्रभावी बैटरी में बदलने की दिशा में सफलता प्राप्त कर ली है। इसके लिए पहले सामान्य टी शर्ट को कार्बन के नैनो ट्यूब की स्याही में डाई किया गया उसके बाद पूरे कपड़े में इलैक्ट्रानिक सर्किट फिट किया गया। इस तरह से टी शर्ट करंट पैदा करने और ऊर्जा एकत्र कर पाने में समर्थ हो गई। यह अनोखी बैटरी शर्ट असंभव सी लगती है मगर शोधकर्ताओं ने इसे तैयार कर धोने, निचोड़ने और फिर प्रैस करने में भी सफलता प्राप्त कर दिखायी है। उनका दावा है कि इस सबके बाद भी बैटरी शर्ट पर कोई गलत प्रभाव नहीं पड़ता और वह बखूबी कार्य करती है।
आने वाले समय में कंप्यूटर की दिशा में और भी सफलताएं सामने आएंगी जो अभी प्रयोगशाला की चारदीवारी में कैद है।

हर कपड़ा कंप्यूटराइज्ड होगा
आइए अब बात की जाए कंप्यूटराइज्ड कपड़ों की। आने वाले ठंडक भरे दिनों के लिए विशेष तोहफा है यह कंप्यूटराइज्ड कपड़े। अमेरिका के विश्व प्रसिद्ध मेसाचुसेट्स इंस्टीटयूट ऑफ टेक्नोलॉजी में ऐसे कपड़े तैयार किए गए हैं जो कंप्यूटर संचालित और ताप नियंत्रित हैं। यानी आपको ठंड के दिनों में कंपकंपाने नहीं देंगे। टॉप वीयर्स ही नहीं अंडर वियर्स भी कंप्यूटराइज्ड होंगे। कंपनी द्वारा ऐसा अंडरवियर तैयार किया गया है जो शरीर के तापमान की लगातार खोज खबर लेता रहता है, और जहां घट-बढ़ खतरनाक स्तर तक पहुंची नहीं कि अलार्म बज उठता है। अब बाकी का काम आपकी सजगता है। इसी प्रकार ठंड से बचने के लिए खास कपड़े की खास जैकेट है जिसके धागे एंटीना का काम करते हैं, साथ ही कनेक्टविटी भी उपलब्ध कराते हैं। जैकेट की जेब में एक छोटा सा मगर बेहद संवेदी की बोर्ड भी रखा गया है जिसे एक हाथ से चलाया जा सकता है। मैसाचुसेट्स इंस्टीटयूट ऑफ टेक्नोलॉजी के विशेषज्ञ स्टीव मान अपनी इस सफलता से खासे उत्साहित हैं और उन्होंने तथा उनके सहयोगियों ने इन कपड़ों को अपना पहनावा बना लिया है।
मैसाचुसेट्स इंस्टीटयूट ऑफ टेक्नोलॉजी के वैज्ञानिकों द्वारा अंतरिक्ष यात्रियों के लिए भी सुविधाजनक पोशाक तैयार कर दिखाई है। यहां के डॉ़ डावा न्यूमैन और उनके सहयोगियों द्वारा अंतरिक्ष यात्रियों के लिए जैव पोशाक बनाई है जो इतनी झीनी और संवेदी है कि यात्रियों की त्वचा पर फिट होगी। यह लचीली होगी ताकि यात्री अपने हाथ पांव सहज मोड़ सकें। पोशाक को ऐसे तैयार किया गया है कि उसके भीतर ताप और दाब नियंत्रित रहेगा। हां, उसे कुछ इस तरीके से बनाया गया है ताकि जब पीठ पर यात्री बोझ उठाएं तो यह प्रभावित न हो।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:तन पर छाएंगी कंप्यूटरी पोशाकें