DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुश्किल हालातों में भी जीत सकता हूं: बोपन्ना

मुश्किल हालातों में भी जीत सकता हूं: बोपन्ना

भारत को डेविस कप विश्व ग्रुप में प्रवेश दिलाने में अहम भूमिका निभाने वाले रोहन बोपन्ना ने रविवार को कहा कि उन्होंने करो या मरो के मैच में रिकार्डो मेलो के खिलाफ जीत दर्ज कर साबित कर दिया कि वह मुश्किल हालातों में भी जीत सकते हैं।

बोपन्ना ने कहा कि लिएंडर पेस और महेश भूपति ने कल सीधे सेटों में अपना युगल मैच जीता था और सोमदेव ने विश्व ग्रुप में बने रहने का बढ़िया मौका मुहैया कराया। सोमदेव जिस तरह से खेला था, उससे मुझे प्रेरणा मिली। मैं खुश हूं कि मैं अपनी जिम्मेदारी पूरी कर पाया।
 
उन्होंने कहा कि काफी लोग कह रहे हैं कि मैं मुश्किल क्षण में हार जाता हूं। मैं कहना चाहूंगा कि मैंने उन्हें गलत साबित कर दिया। अनुभवी भारतीय डेविस कप खिलाड़ी पेस और भूपति ने बोपन्ना और सोमदेव की तारीफों के पुल बांधे। पेस ने कहा कि सोमदेव, रोहन और कप्तान मिश्रा की तारीफ करता हूं। रोहन शुक्रवार को अपने से ऊंची रैंकिंग के खिलाड़ी के खिलाफ मैच पांच सेट तक ले गए थे, उन्होंने ऐस और बैकहैंड शाट से बेहतर खेल दिखाया। सोमदेव ने भी आज सुबह अच्छा खेल दिखाया।
 
उन्होंने कहा कि पहले एकल के बजाय रोहन ने आज नैसर्गिक खेल दिखाया और एक बार भी अपनी सर्विस नहीं गंवाई। भूपति ने कहा कि आज रोहन ने भारत को एलीट वर्ग में बने रहने में मदद की।

भारत के गैर खिलाड़ी कप्तान एस पी मिश्रा ने सोमदेव की तारीफ की। उन्होंने कहा कि सोमदेव शानदार फार्म में था और यदि बेलूची रिटायर नहीं होता तो भी हम मैच जीत जाते। आज उसका दिन था और मेरे पास बेहतरीन टीम थी। यह सर्वश्रेष्ठ डेविस कप टीम है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुश्किल हालातों में भी जीत सकता हूं: बोपन्ना