DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एकचाुटता पर जोर और चुनाव जीतने का संकल्प

सात और आठ फरवरी को नागपुर में होनेवाली पार्टी की राष्ट्रीय परिषद की बैठक के बाद प्रदेश भाजपा राज्य में चुनावी मैदान में कूद जायेगी। विधानसभा भंग कर चुनाव कराने की मांग को लेकर आंदोलन करगी। राज्य की इस दुर्दशा के लिए जिम्मेदार यूपीए के कारनामों से जनता को अवगत करायेगी। इस क्रम में आपसी एकाुटता पर विशेष ध्यान देने का आग्रह किया गया। उक्त आशय का फैसला प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद पहली बार हुई कोर कमेटी की बैठक में लिया गया। रघुवर दास की अध्यक्षता में हुई बैठक में यशवंत सिन्हा, अजरुन मुंडा, कड़िया मुंडा, पीएन सिंह, रामटहल चौधरी, प्रसन्न मिश्र, रांन पटेल, दिनेशानंद गोस्वामी सहित कई नेता उपस्थित हुए।गोस्वामी ने बताया कि बैठक में 23 जनवरी को रलवे के विभिन्न कार्यक्रमों भाग लेने आये रल मंत्री लालू प्रसाद द्वारा यूपीए के पक्ष में वोट की मांग का जबरदस्त विरोध किया गया। सरकारी कार्यक्रमों में लालू प्रसाद द्वारा राजनीतिक भाषण का विरोध किया गया। इधर सूत्रों के अनुसार बैठक में प्रदेश अध्यक्ष ने संगठन में आंशिक फेरबदल करने, मिलजुल कर चुनावी वैतरणी को पार करने और अंतर्विरोध को समाप्त करने की बात कही। यह भी तय किया गया कि राष्ट्रीय परिषद की बैठक के बाद चुनावी रणनीति को कार्यरूप दिया जायेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: एकचाुटता पर जोर और चुनाव जीतने का संकल्प