DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कमाल दिखाएगा इंटरनेट एक्सप्लोरर-9

वेब ब्राउजर बाजार पर कब्जा जमाने रखने के मकसद से माइक्रोसॉफ्ट ने इंटरनेट एक्सप्लोरर 9 लॉन्च कर दिया है। सैन फ्रांसिस्को में एक समारोह में माइक्रोसॉफ्ट ने आइई-9 का बीटा संस्करण पेश किया। दुनिया की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनी माइक्रोसॉफ्ट वेब ब्राउजर बाजार में अपनी घटती हिस्सेदारी को लेकर कितनी चिंतित है, यह आइई-9 को पेश करने के लिए चुने गए वक्त से भी समझा जा सकता है।

साल भर के भीतर यह दूसरा मौका है, जब माइक्रोसॉफ्ट ने नया ब्राउजर पेश किया है। इंटरनेट की मायावी दुनिया में टहलने के लिए वेब ब्राउजर रूपी वाहन की जरूरत होती है और माइक्रोसॉफ्ट का दावा है कि आइई-9 इस अनुभव को बेहतरीन बना देगा।

आइई-9 को माइक्रोसॉफ्ट की साइट्स से डाउनलोड किया जा सकता है। इसे 30 भाषाओं में पेश किया गया है। आइई-9 की खासियत कई हैं, इसमें शक नहीं। यह पहला ब्राउजर है जो वेबसाइट्स को यूजर्स के फोकस में रखेगा। इसमें ड्रैग एंड ड्रप की सुविधा है।

उपयोक्ता जिन वेबसाइट्स को ज्यादा इस्तेमाल करते हैं, उन्हें ड्रैग करके स्क्रीन के नीचे टास्क बार में ला सकते हैं। आइई-9 एचटीएमल5 और सीएसएस 3.0 को सपोर्ट करेगा और इस ब्राउजर के जरिए ग्राफिक्स और ऑडियो-वीडियो कंटेंट को देखना-पढ़ना आसान और तेज होगा।

वेबब्राउजर के एड्रेस बार में वेबसाइट के पते को टाइप करना सहज बनाया गया है और वहीं सर्च विकल्प की सुविधा भी है। डिफॉल्ट सर्च इंजन बिंग है, जिसे आप बदल सकते हैं। लेकिन, ध्यान रखने वाली बात यह है कि विंडोज़ एक्सपी और उसने निचले अपरेटिंग सिस्टम पर ब्राउजर नहीं चलेगा। इसके लिए आपके कंप्यूटर में कम से कम विंडोज़ विस्टा या विंडोज़-7 होना चाहिए।

मोजिला फायरफॉक्स और गूगल क्रोम से मिल रही कड़ी टक्कर को देखते हुए माइक्रोसॉफ्ट को इंटरनेट एक्सप्लोरर का नया संस्करण उतारना पड़ा है। इसे देखते हुए कई बड़ी वेबसाइट्स ने अपने डिजाइन में बदलाव कर दिए हैं। इनमें फेसबुक, ई-बे, सीएनएन और अमेजन शामिल हैं।

साल 2003 तक ब्राउजर बाजार के करीब 95 प्रतिशत हिस्से पर कब्जा रखने वाले आइई अब 60 प्रतिशत से नीचे खिसक आया है। हालांकि, आज भी इंटरनेट एक्सप्लोरर अपने प्रतियोगियों से कहीं आगे है, लेकिन उसकी घटती बाजार हिस्सेदारी माइक्रोसॉफ्ट के लिए चिंता का सबब है। ब्राउजर के जरिए वेब यूजर्स करते यूजर्स को पकड़ने की होड़ मची है और इसलिए एक के बाद एक वेब ब्राउजर बाजार में आ रहे हैं। सभी नए फीचर्स के साथ।

आइई को क्रोम से बड़ी चुनौती मिली है, लिहाजा पहले मुकाबले में आइई-8 को उतारा गया, जो मुकाबला करने में नाकाम रहा। अब आइई-9 उतारा गया है। देखना होगा कि क्या नया ब्राउजर माइक्रोसॉफ्ट की चिंता को दूर कर पाता है?

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कमाल दिखाएगा इंटरनेट एक्सप्लोरर-9