DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सामाजिक बदलाव लाने की छात्रों की अनूठी पहल

आगरा के कई स्कूली छात्र अपने अनूठे तरीके से सामाजिक बदलाव लाने की कोशिश कर रहे हैं। ये छात्र गरीबों के लिए स्वास्थ्य शिविर आयोजित कर रहे हैं तो झुग्गी-बस्ती की महिलाओं को शिक्षित बना रहे हैं और स्वच्छता की ओर भी ध्यान दे रहे हैं। एक अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता 'डिजाइन फॉर चेंज' के तहत ये सब किया जा रहा है।

बदलाव लाने के एक महत्वाकांक्षी आंदोलन की भावना के साथ आगरा के 20 से ज्यादा स्कूलों के आठ से 13 साल उम्र बच्चों इस प्रतियोगिता में हिस्सा ले रहे हैं।

प्रतियोगिता का पहला हिस्सा पिछले सप्ताह शुरू हुआ, जिसमें बच्चों में विभिन्न विषयों पर अभिनव विचारों के सृजन के लिए विचार-विमर्श के सत्र आयोजित हुए। दूसरे हिस्से में परियोजना की वास्तविक शुरुआत होगी। इसके तहत 26 सितम्बर से दो अक्टूबर तक 'जॉय ऑफ गिविंग' सप्ताह का आयोजन होगा।

सेंट पीटर्स कॉलेज के लड़कों ने वहां गरीबों के लिए 'उपचार' नाम से एक स्वास्थ्य शिविर आयोजित किया है।

करीब एक दर्जन लड़कों के इस समूह की अगवानी करने वालीं शिक्षिका आकांक्षा कहती हैं, ''प्रत्येक दिन चिकित्सा विशेषज्ञ कमजोर तबकों के लोगों को चिकित्सा सहायता उपलब्ध कराएंगे। लड़के छोटी बस्तियों और झुग्गियों में जाकर लोगों को इस सुविधा की सूचना दे रहे हैं।''

दूसरी ओर सेंट पैट्रिक जूनियर कॉलेज की छात्राओं ने झुग्गियों की महिलाओं को शिक्षित करने की योजना बनाई है। स्कूल की प्राचार्य सिस्टर लारेंस ने बताया कि यह एक तरह का क्रैश कोर्स जैसा होगा जो महिलाओं को आगे पढ़ाई जारी रखने के लिए प्रेरित करेगा।

सामाजिक कार्यकर्ता राजन किशोर कहते हैं, ''इन दिनों ज्यादातर स्कूल, नृत्य, गायन, फैशन शो, वाद-विवाद या निबंध लेखन प्रतियोगिताएं आयोजित करते हैं। यह प्रतियोगिता अनूठी और अलग है। इससे लोगों को शिक्षित करने, सशक्त करने और समृद्ध बनाने में मदद मिलेगी।'' अभिनेता राहुल बोस इस अभियान के ब्रांड एम्बेस्डर हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सामाजिक बदलाव लाने की छात्रों की अनूठी पहल