DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मैंने सोचा रणनीति के तहत आमिर ने फेंकी नो-बॉल : हिल

मैंने सोचा रणनीति के तहत आमिर ने फेंकी नो-बॉल : हिल

लॉर्डस टेस्ट के दौरान स्पॉट फिक्सिंग की सनसनीखेज़ घटना का गवाह बने न्यूज़ीलैंड के अंपायर टोनी हिल के मुताबिक उन्हें लगा था कि पाकिस्तानी गेंदबाज़ मोहम्मद आमिर ने सोची-समझी रणनीति के तहत इंग्लैंड के बल्लेबाज़ जोनाथन ट्रॉट को नो-बॉल फेंकी है।

हिल को इस बात का बिल्कुल अंदाज़ा नहीं था कि आमिर की वह गेंद विवादों में घिर जाएगी क्योंकि अंपायर होने के नाते उनका काम सही-गलत का फैसला कर निर्णय सुनाना होता है, किसी खिलाड़ी पर शक करना नहीं।

समाचार पत्र 'डोमिनियन पोस्ट' ने हिल के हवाले से लिखा है कि मैं और मेरे साथी अंपायर बिली बॉडन मैदान में थे। हम इस घटना के गवाह बने लेकिन हम कभी भी किसी बात पर संदेह नहीं करते। हमने देखा कि वह नो-बॉल थी और हमने अपना फैसला सुना दिया।

पहली नज़र में मुझे लगा था कि आमिर ने काफी समय से विकेट पर टिके ट्रॉट को परेशान करने के इरादे से नो-बॉल फेंकी है लेकिन बाद में उस गेंद की असलियत का पता चला। तेज़ गेंदबाज़ अक्सर काफी आगे निकलकर गेंद फेंक देते हैं, ऐसे में बार-बार उन पर शक नहीं किया जा सकता।

आमिर और फिर उसी मैच में मोहम्मद आसिफ द्वारा नो-बॉल फेंका जाना क्रिकेट इतिहास की सबसे शर्मनाक घटनाओं में दर्ज हो गया क्योंकि एक ब्रिटिश समाचार पत्र ने खुलासा किया कि इन गेंदबाजों ने सटोरिए से पैसे लेकर नियत समय पर नो-बॉल फेंकी थी। इसे क्रिकेट की भाषा में स्पॉट फिक्सिंग कहा जाता है।

इस घटना में आमिर और आसिफ के अलावा पाकिस्तानी टीम के कप्तान सलमान बट्ट भी शामिल बताए गए। तीनों खिलाड़ियों के खिलाफ जांच चल रही है और आईसीसी उन्हें जांच पूरी होने तक निलंबित कर चुकी है। जांच का काम स्कॉटलैंड यार्ड पुलिस और आईसीसी की भ्रष्टाचार निरोधी इकाई कर रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मैंने सोचा रणनीति के तहत आमिर ने फेंकी नो-बॉल : हिल