DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीपीपी

मान लीजिए आप कहीं छुट्टियों पर गए हैं और वहां आपका पर्स खो जाता है। उसमें आपके क्रेडिट और डेबिट कार्ड भी थे, तो आप क्या करेंगे? इसका जवाब होगा कि आपको केवल एक फोन कॉल करनी होगी, जिससे आप न सिर्फ कार्ड के दुरुपयोग को रोक सकेंगे साथ ही आपातस्थिति में अपने बिल आदि का भुगतान करने संबंधी मार्गदर्शन भी हासिल कर सकेंगे। इन दिनों विभिन्न बैंक कार्ड प्रोटेक्शन प्लान (सीपीपी ) की सुविधा दे रहे हैं। 
कार्ड चोरी होने या खोने की स्थिति में आपको सीपीपी सर्विस वालों को फोन करना होगा। सूचना पाते ही आपका कार्ड ब्लॉक कर दिया जाएगा। यह प्लान घटना की सूचना देने से पहले और बाद में कार्ड के दुरुपयोग के प्रति सुरक्षा प्रदान करता है। सूचना देने से सात दिन पूर्व तक कार्ड संबंधी दुरुपयोग के प्रति इसमें बीमा प्रदान किया जाता है। यदि आप ट्रिप पर हैं और आपके पास ट्रैवल टिकट या होटल बिल का भुगतान करने के लिए भी पैसा नहीं है तो सीपीपी के जरिए आपको इसके लिए भी सहायता मिल जाएगी। यदि आप भारत में हैं तो 24 घंटे के भीतर और विदेश में होने पर 48 घंटों के भीतर एक असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव आपकी सहायता के लिए आपसे संपर्क करेगा।
सीपीपी के तहत क्लासिक और प्रीमियम दो तरह के प्लान होते हैं। क्लासिक प्लान में सूचना देने से सात दिन पहले तक के समय में कार्ड का दुरुपयोग होने पर 50 हजार रुपये तक की राशि की सुरक्षा दी जाती है। वहीं सूचना देने के बाद हुए नुकसान के प्रति 15 लाख रुपये तक की सुरक्षा प्रदान की जाती है।
यदि आप भारत में हैं तो आप नकदी सहायता के तौर पर 20 हजार रुपये तक की राशि ले सकते हैं, जिस पर ब्याज का भुगतान नहीं करना होता। पर आपको इसे 28 दिन के भीतर वापस देना होगा। सीपीपी प्लान के तहत आप अन्य महत्वपूर्ण दस्तावेज जैसे पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस और पेन कार्ड आदि भी पंजीकृत करा सकते हैं।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सीपीपी