DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दुर्गापूजा के लिए मां दुर्गा को सजाने में जुटीं रेलमंत्री

दुर्गापूजा के लिए मां दुर्गा को सजाने में जुटीं रेलमंत्री

रेल मंत्री ममता बनर्जी न केवल एक प्रखर राजनेता हैं बल्कि एक गायिका व चित्रकार भी हैं और कविता पाठ भी करती हैं। दुर्गा पूजा का समय नजदीक आ रहा है और अब उन्होंने दुर्गा की मूर्तियां गढ़ने और उनकी सजावट के लिए समय निकाल लिया है।

तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता 'बाकुल बागान साबरेजनिन दुर्गा उत्सव' में शामिल हो गई हैं। यह संस्था उनके दक्षिणी कोलकाता के कालीघाट स्थित घर के समीप दुर्गोत्सव का आयोजन करेगी। उत्सव के आयोजनकर्ताओं ने उनका नाम सजावट के लिए पेंटिंग करने वाले चित्रकारों की सूची में शामिल किया है।

आयोजनकर्ताओं का कहना है कि ममता पूजा स्थल की सजावट और मूर्तियों के लिए पेंटिंग बना रही हैं। उनके साथ कुछ ऐसे लोग भी हैं जो उनके विचारों को कार्यरूप दे सकें।

'बाकुल बागान साबरेजनिन दुर्गा उत्सव' के अध्यक्ष असित घोष ने बताया कि अरुण कुमार, दीदी (ममता बनर्जी) के बनाए डिजाइंस के आधार पर मूर्तियां बनाएंगे। उन्होंने खुद अरुण को चुना है क्योंकि वह कालीघाट में उनके घर के नजदीक ही रहते हैं।

घोष ने बताया कि हमने एक स्थानीय कलाकार को उनके बनाए डिजाइंस के आधार पर दुर्गा की झांकी सजाने का काम सौंपा है। झांकी के लिए अंडाकार शामियाना बांस और तिरपाल से बनाया जाएगा और उसे दीदी की पेंटिंग्स से सजाया जाएगा।

ममता के नजदीकी तृणमूल कांग्रेस के एक नेता ने बताया कि पूजा का विषय 'महाकाल' (एक पौराणिक काल जो जीवन की उत्पत्ति के पहले शुरू हुआ था और अब तक जारी है।) की अवधारणा पर आधारित होगा।

ममता 11 अक्टूबर को इस संस्था के दुर्गा उत्सव की शुरुआत करेंगी। यह शुरुआत देवी दुर्गा की वार्षिक पांच दिवसीय पूजा आरंभ होने से तीन दिन पहले ही हो जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दुर्गापूजा के लिए मां दुर्गा को सजाने में जुटीं रेलमंत्री