DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चलो अमीर भी हो लें

मौलाना पसीने से लथपथ अंगोछे से हाथ-मुंह पोंछ रहे थे। बोले- ‘भाई मियां, जहां बरस रहा है, बाढ़ आ रही है, वहां बेचारे त्रस्त लोग खटिया सिर पर उठाए भागे जा रहे हैं। इधर अपने लखनऊ में बारिश भी पाकिस्तानी क्रिकेट खिलाड़ियों की तरह भ्रष्ट हो गई है। अल्ला रखे, जवानी के दिनों में, इसी भादो के महीने में आत्मा तक से पानी चूने लगता था। अब आत्मा की जगह सरकारी आवासों की छतों ने ले ली है। टपाटप रो रही है। खैर।’

नाक पर पसीने की बूंद पोंछ कर बोले- ‘कुछ पढ़ा आपने, अपने युवा नेता राहुल भय्या बोले हैं कि हमें अमीर हिन्दुस्तान बनाना है। मेरा दिन तो दनादन कुलाचें भरने लगा। हाय अल्लाह कैसा होगा अमीर हिन्दुस्तान? रसूल-ए-पाक मुझे 25-30 साल और लम्बी उम्र दे दें, ताकि मैं अमीर हिन्दुस्तान देख सकूं जिसमें नत्थू किसान अपने बच्चों के साथ टोयोटा कार में घूमेगा.., पिज्जा खाएगा। भगोले रिक्शावाला अपने माइक्रोवेव ओवन पर रोटियां सेंकेगा। जीते रहो राहुल भय्या। महंगाई जरा दो-चार गुनी और बढ़ जावे। लो जी, हिन्दुस्तान अमीर हो गया। पोलीथीन खत्म, आटा छोटी-छोटी पुड़ियों में बिकने लगेगा। इंडिया हैज बिकम ए रिच कंट्री। भाई मियां, अमीरी का यह सपना कब साकार होगा? भय्या बोले हैं कि सड़क-बिजली वगैरा की बेहद जरूरत है यानी इंजीनियरों, ठेकेदारों, सप्लायरों की ठोस चांदी। हो गया इंडिया अमीर। भाई मेरे, आपने खुद एक जगह लिखा है कि अमीर और गरीब में बहुत बारीक फर्क है। अमीर को भूख लगने पर रोटी मिलती है.. गरीब को रोटी मिलने पर भूख लगती है। मैं तो कहूं अगर राहुल भैय्या भ्रष्टाचार के अजगर की दुम छोटी करके दिखा दें तो अपना इंडिया, काफी हद तक अमीर हो जाएगा। कि मैं गलत कह रहा हूं? बाकी बस खुदा हाफिज और जय हिन्द।’  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चलो अमीर भी हो लें