DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निशंक ने की उत्तर प्रदेश के विभाजन की वकालत

वाराणसी आए उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने सोमवार को विकास के बाबत छोटे राज्यों की वकालत करते हुए कहा है कि इससे विकास की बयार की गति को तेज किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड के अनुभव इस बात के गवाह हैं कि छोटी इकाइयों से विकास कार्यों में तेजी लाई जा सकती है।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के हरित प्रदेश और पूर्वांचल के रूप में अलग राज्य की मांग करने वालों को निशंक के बयान से समर्थन मिल गया है, जबकि भारतीय जनता पार्टी उत्तर प्रदेश के और विभाजन के खिलाफ है।

जौनपुर और वाराणसी में आयोजित विभिन्न कार्यक्रमों में शामिल होने आए निशंक ने बताया कि वर्ष 2000 में उत्तराखंड के गठन के समय जहां इसकी विकास दर 2.9 फीसदी थी वहीं वर्तमान में यह आंकड़ा 9.31 फीसदी है। विकास दर के मामले में उत्तराखंड देश में तीसरे पायदान पर है। इतना ही नहीं राज्य में वर्तमान में सालाना प्रति व्यक्ति आय 42 हजार रुपए के करीब है जो कि राष्ट्रीय स्तर पर सालाना औसत प्रति व्यक्ति आय से ज्यादा है।

निशंक ने बताया कि उत्तर प्रदेश से अलग होने के बाद उत्तराखंड ने आर्थिक रूप से काफी तरक्की की है। निशंक ने काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन पूजा अर्चना की और दशाश्वमेध घाट पर शाम की आरती देखी। स्पर्श गंगा कार्यक्रम में शिरकत करने के बाद निशंक ने लोगों से गंगा को प्रदूषण मुक्त करने की अपील की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:निशंक ने की उत्तर प्रदेश के विभाजन की वकालत