DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पैदावार कम लेकिन चाय की कीमतों में स्थिरता

दुनिया में चाय के दूसरे सबसे बडे़ उत्पादक भारत में मौसम और कीटों की मार से पैदावार प्रभावित होने और इसके कम गुणवत्ता वाली चाय बाजार में आने के बावजूद इसकी कीमतें अच्छी मांग के कारण लगभग स्थिर बनी हुई हैं।

चाय बोली लगाने वाली कंपनियों के मुताबिक टाटा ग्लोबल और हिन्दुस्तान यूनीलिवर जैसी बड़ी खरीदार कंपनियों की ओर से मांग अच्छी बनी रहने से पैदावार प्रभावित होने के बावजूद बाजार में चाय की कीमतों में कमी नहीं आई है।

चाय कारोबारियों के संघ, कोलकाता टी एसोसिएशन के मुताबिक चाय की बिक्री करने वाली बडी कंपनियां खरीद में काफी दिलचस्पी ले रही हैं जिससे फिलहाल कीमतें स्थिर है हालांकि पैदावार प्रभावित होने से आगे इनकी कीमतों पर असर पड़ने की आशंका है।
 
पिछले कारोबारी सप्ताह में चाय की सीटीसी किस्म के लिए 135.57 रूपए प्रति किलोग्राम की बोली लगाई गई। यह इससे पहले की कीमत से 0.07 फीसदी अधिक रही। हालांकि डस्ट किस्म में 1.08 फीसदी गिरावट के साथ 135.83 रूपए प्रति किलोग्राम पर बेची गई।
 
देश में चाय की सबसे ज्यादा पैदावार वाले क्षेत्र असम में इस बार चाय बागानों में खराब मौसम और हेलापेलिटिस कीटों के कोरण फसल की गुणवत्ता बुरी प्रभावित हुई है। उत्पादन पर भी असर पड़ा है लेकिन बाजार में मांग बनी रहने से कीमतें उस लिहाज से प्रभावित नहीं हुई हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पैदावार कम लेकिन चाय की कीमतों में स्थिरता