DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यूएस ओपनः हारकर भी जीत गए बोपन्ना और कुरैशी

यूएस ओपनः हारकर भी जीत गए बोपन्ना और कुरैशी

वे भले ही अपना पहला ग्रैंडस्लैम फाइनल हार गए हों लेकिन भारत के रोहन बोपन्ना और पाकिस्तान के ऐसाम उल हक कुरैशी ने अमेरिका पर हुए आतंकी हमले की नौवीं बरसी के मौके पर अमन का पैगाम जरूर दिया।

बोपन्ना और कुरैशी को शीर्ष वरीयता प्राप्त माइक और बाब ब्रायन से 6-7, 6-7 से पराजय झेलनी पड़ी। उनका पैगाम हालांकि इतना जज्बाती था कि ब्रायन बंधुओं को कहना पड़ा कि यदि यह ग्रैंडस्लैम फाइनल नहीं होता तो वह 16वीं वरीयता प्राप्त अपने प्रतिद्वंद्वियों की जीत की दुआ करते।

बाब ने कहा, हम उनकी जीत की दुआ करते। युगल में वे काफी लोकप्रिय हैं। वे इस वर्ग के प्रवक्ता हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि मैं भावविभोर हो गया। उनका पैगाम सभी ने दिल से महसूस किया। मैंने कुरैशी को देखा जिसने पाकिस्तान के बारे में बोला। वाकई वह काबिले तारीफ है।

संयुक्त राष्ट्र में भारत और पाकिस्तान के दूत क्रमश: हरदीप सूरी और अब्दुल्ला एच हारुन ने मिलकर यह मैच देखा। बोपन्ना और कुरैशी ने उन्हें धन्यवाद दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:यूएस ओपनः हारकर भी जीत गए बोपन्ना और कुरैशी