DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पंखे की घर्र-घर्र, घर में कलह और संबंधों में तनाव के पूरे आसार

वास्तुशास्त्र की मानें तो आपके रहने की जगह इस बात की इनसाइक्लोपीडिया है कि आपकी जिंदगी कैसी होगी। मान्यता है कि यदि व्यक्ति वास्तु के हिसाब से बने घर में रहता है, तो उसका जीवन सुख एवं समृद्घि से पूर्ण होता है। इस बार हम आपको वास्तु से संबंधित छोटे-छोटे उपाय बताते हैं।

ऐसे पंखों को तुरंत ठीक करवाएं जिससे जो घर्र-घर्र की आवाज पैदा करते हों। पंखें से आने वाली आवाज आपके निजी जीवन में कलह पैदा कर सकती है।
पूजा घर में पुराना बेकार सामान रखने से आर्थिक और शारीरिक नुकसान होता है।
पूजा घर ईशान कोण में होना चाहिए।
घर या व्यवसाय स्थल के मुख्य द्वार के सामने किसी तरह का कचरा नहीं होना चाहिए। ऐसा होने से उस मकान और व्यवसाय में दोष उत्पन्न होता है।
पलंग पर किसी प्रकार का दर्पण नहीं होना चाहिए। और व्यक्ति सोता है तो वह किसी दर्पण में नहीं दिखे। अन्यथा व्यक्ति से शरीर में अनावश्यक दर्द की शिकायत उत्पन्न हो जाती है। शीशे को हमेशा ढक कर रखें।
घर में कोई मांगलिक कार्य हो तो गणपति की पूजा के साथ-साथ अपने पूर्वजों की पूजा अवश्य करें।
पूर्वजों की पूजा करने से इच्छित कार्य शांति से संपन्न होते हैं।
तिजोरी कभी भी खाली नहीं रखें।
महत्वपूर्ण कागजातों को पूर्व दिशा में अलमारी में रखें। कागजात हमेशा अलमारी में ही रखें।
चप्पलें या जूते इधर-उधर बिखरे या उल्टे पड़े हुए न हों। इससे घर में कलह होती है।
रसोई घर आग्नेयकोण में होना चाहिए। कोशिश करें कि खाना बनाते समय मुंह पूर्व दिशा में हो।
यदि हो सके तो महत्वपूर्ण कामों पर घर से जाने के पहले दही जरूर खाएं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पंखे की घर्र-घर्र, कलह और संबंधों में तनाव