DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मथुरा में आतंकी नसरूल्लाह को सुनाई तीन साल की कैद

फर्जी वारंट के सहारे फरार होने की योजना के मामले में धोखाधड़ी के आरोपों का सामना कर रहे कथित पाकिस्तानी आतंकवादी नसरूल्लाह मंसूर लगरियाल को स्थानीय कोर्ट ने दोषी करार देते हुए गुरुवार को तीन साल कैद की सजा सुनाई।

अभियोजन पक्ष के अनुसार जब नसरूल्लाह दिल्ली के तिहाड़ में निरूद्ध था तभी कथित रूप से मथुरा से जारी किए गए एक बी वारंट के सहारे उसे कोर्ट में पेश करने के दौरान छुड़ाने की चाल चली गयी थी जो सफल नहीं हो पाई और मथुरा की अदालत में पेशी वारंट के फर्जी होने का भेद खुल गया। मथुरा में पिछले डेढ़ वर्ष से इस मामले की सुनवाई चल रही थी। गुरूवार को आगरा के केन्द्रीय कारागार से विशेष सुरक्षा घेरे के बीच लाग गए नसरूल्लाह को मथुरा की सीजेएम कोर्ट में पेश किया गया। मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट चंद्रभानु सिंह ने कल नसरूल्लाह को दोषी करार देते हुए आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत तीन-तीन साल कैद की सजा सुनाई। तीनों सजाएं साथ-साथ चलेंगी तथा इस मामले में जेल में बिताई गयी अवधि का समायोजन भी सजा में किया जाएगा।

गौरतलब है कि नसरूल्लाह इस मामले में 19 जनवरी 1997 से जेल में है। ऐसे में उसकी सजा पहले ही पूरी हो चुकी है। मगर उसे अभी रिहा नहीं किया जा सकेगा क्योंकि हुजी जैसे आतंकी संगठनों से जुड़े रहे नसरूल्लाह को जम्मू कश्मीर के पीएसए एक्ट के तहत निरूद्ध किया गया है जिसकी अवधि अक्टूबर में खत्म हो रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मथुरा में आतंकी नसरूल्लाह को सुनाई तीन साल की कैद