DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उत्तर प्रदेश में 76 न्यायिक अधिकारियों की प्रोन्नति

इलाहाबाद उच्च न्यायालय के आदेश पर उत्तरप्रदेश में तीन महिलाओं सहित करीब 76 न्यायिक अधिकारियों को उच्चतर न्यायिक सेवा कैडर में प्रोन्नति दी गई है। एक आधिकारिक बयान के मुताबिक जिन लोगों की पदोन्नति हुई है उनमें फास्ट ट्रैक कोर्ट के 72 न्यायाधीश, स्माल कोजेज कोर्ट के दो न्यायाधीश, एक चीफ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट और एक अतिरिक्त चीफ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट शामिल हैं।

बिना स्थानांतरण के फास्ट ट्रैक के जिन न्यायाधीशों का तबादला किया गया है उनमें संगम लाल (वाराणसी), अभिमन्यु (गाजीपुर), अनूप कुमार गोयल (फरूखाबाद), मनोहर लाल (कन्नौज) एवं प्रताप कुमार गुप्ता (रामपुर) शामिल हैं।

मुजफ्फरनगर के फास्ट ट्रैक कोर्ट के तीन न्यायाधीश आदर्श कुमार सिंह कनौजिया, महेंद्र कुमार आर्या और जितेंद्र कुमार पांडेय को पदोन्नत कर क्रमश: अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश झांसी, कानपुर नगर एवं सुल्तानपुर बनाया गया है।

हरदोई के फास्ट ट्रैक कोर्ट के न्यायाधीश अविनाश चंद्र त्रिपाठी को अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश आजमगढ़ बनाया गया है जबकि फैजाबाद फास्ट ट्रैक कोर्ट के न्यायाधीश बजेश कुमार मिश्रा अब अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश लखनऊ होंगे। पदोन्नति पाने वालों में तीन महिलाएं भी शामिल हैं। फास्ट ट्रैक कोर्ट की न्यायाधीश मदुला कुमार (उन्नाव), संगीता श्रीवास्तव (आगरा) और दीपा जैन (बुलंदशहर) को पदोन्नति दी गई है।

संगीता श्रीवास्तव आगरा में अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश होंगी वहीं मदुला कुमार और दीपा जैन को क्रमश: सहारनपुर एवं इलाहाबाद स्थानांतरित किया गया है। बिजनौर एवं गाजियाबाद में स्मॉल कॉजेज कोर्ट के न्यायाधीश क्रमश: बंसराज एवं संजीव यादव को पदोन्नत किया गया है। दोनों को उनके पदस्थापन के वर्तमान स्थानों पर ही अतिरिक्त एवं जिला न्यायाधीश बनाया गया है।

आगरा के चीफ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट मेरठ में अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश होंगे जबकि कुशीनगर जिले के कासिया में अतिरिक्त सीजेएम सुरेश चंद्र सविता को पदोन्नत कर चित्रकूट भेजा गया है जहां वह अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश बनेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:उत्तर प्रदेश में 76 न्यायिक अधिकारियों की प्रोन्नति