DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

'पॉवर विदइन' को लेकर उत्साहित हैं अनुपम

'पॉवर विदइन' को लेकर उत्साहित हैं अनुपम

अभिनेता अनुपम खेर को उनके सिनेमा से इतर किए जाने वाले कई कार्यो के लिए भी जाना जाता है। इन दिनों वह अपनी 'पॉवर विदइन' परियोजना को लेकर काफी उत्साहित हैं।

अगले साल शुरू होने जा रही इस परियोजना में कार्यशालाओं की एक सीरीज़ आयोजित कर लोगों को आध्यात्मिक दृष्टि से स्वस्थ, पोषित और सशक्त बनाया जाएगा।

अनुपम ने कहा कि मेरे दिमाग में इन आध्यात्मिक चिकित्सालयों का विचार तब आया जब मैंने कुछ समय पहले आत्म-अवलोकन विषय पर वक्तव्य दिया था। हममें से कई, खासकर वे जो छोटे शहरों से आते हैं उनमें खुद को कमतर करके देखने की परेशानी होती है।

उन्होंने कहा कि जब मैं अभिनेता बनने के लिए मुंबई आया था तो मुझे अपनी कमज़ोर अंग्रेज़ी से लेकर मेज पर खाने के लिए बैठने के अपने तौर-तरीकों को लेकर शर्मिंदगी होती थी। तब मुझे एहसास हुआ कि मुझे लोगों की स्वीकृति की ज़रूरत नहीं है। ज़रूरी है कि मैं स्वयं को पसंद करूं और खुद के व्यक्तित्व के साथ सहज रह सकूं। 'पॉवर विदइन' कार्यशालाओं में लोगों को यही बताया जाएगा।

शुरुआत के लिए अनुपम ने फिल्मोद्योग के उनके कुछ मित्रों को कार्यशाला के लिए चुना है। इन लोगों ने आत्मविश्वास की कमी को स्वीकार किया था। अगले साल भारत में इन कार्यशालाओं की शुरुआत के बाद दुनियाभर में भी इन्हें शुरू किया जाएगा।

अनुपम महसूस करते हैं कि उनका नाटक 'कुछ भी हो सकता है' उन्हें उनकी सफलताओं और असफलताओं का मूल्य बताता है। मंगलवार को अनुपम पर केंद्रित एक पेंटिंग प्रदर्शनी शुरू हुई है। गीता दास की बनाई इन पेंटिंग्स से अनुपम को अपनी सफलताओं का महत्व समझने में मदद मिली। वह कहते हैं कि गीता दास ने पेंटिंग्स में मुझे एक हीरो की तरह नहीं दिखाया है। उन्होंने प्रदर्शनी में मेरी असफलताओं को चित्रित किया है। मुझे यही बात पसंद आई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:'पॉवर विदइन' को लेकर उत्साहित हैं अनुपम