DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डोपिंग का तैयारियों पर कोई असर नहीं : तैराकी कोच

डोपिंग का तैयारियों पर कोई असर नहीं : तैराकी कोच

दिल्ली राष्ट्रमंडल खेलों के लिए चुनी गई भारतीय तैराकी टीम के दो सदस्य भले ही डोपिंग के डंक का शिकार हो गए हों लेकिन तैराकी कोच का दावा है कि इस प्रकरण का अन्य खिलाड़ियों के अभ्यास पर कोई असर नहीं पड़ेगा।
    
राष्ट्रमंडल खेलों के लिए चुनी गई तैराकी टीम के दो सदस्य रिचा मिश्रा और ज्योत्सना पंसारे सहित तीन खिलाड़ी हाल में परीक्षण के दौरान डोप करने के दोषी पाए गए थे। अमीन ने बेंगलूर से कहा कि डोपिंग मामला ज़ाहिर तौर पर शर्मनाक है लेकिन इसका राष्ट्रमंडल खेलों के लिए अभ्यास कर रहे तैराकों पर कोई असर नहीं पड़ेगा।
    
राष्ट्रमंडल खेल 2010 की तैराकी स्पर्धाओं के लिए भारतीय तैराकी महासंघ (एसएफआई) ने निहार अमीन और प्रवीण कुमार को तैराकों की तैयारियों की ज़िम्मेदारी सौंपी है।
    
पूछे जाने पर कि रिचा मिश्रा सर्वश्रेष्ठ महिला तैराकों में शुमार है तो क्या उसका डोपिंग में फंसना टीम के लिए झटका माना जाएगा, कोच ने कहा कि रिचा भले ही राष्ट्रीय स्तर की तैराक हो लेकिन वह राष्ट्रमंडल खेलों में पदक की प्रबल दावेदारों में शामिल नहीं हैं। इसलिए इससे बहुत ज्यादा फर्क नहीं पड़ता।
     
अमीन हालांकि राष्ट्रमंडल खेलों से जुड़े विवादों से नाखुश दिखे और उन्होंने इन विवादों की जगह खिलाड़ियों के प्रशिक्षिण पर ध्यान देने की वकालत की। उन्होंने कहा कि राष्ट्रमंडल खेलों से जुड़े विवाद निराश करने वाले हैं। सबका ध्यान इन्हीं विवादों पर है। खिलाड़ियों और उनकी तैयारियों पर किसी का ध्यान नहीं है।

अमीन फिलहाल बेंगलूर में कोर ग्रुप के कई तैराकों को अभ्यास करा रहे हैं जिनमें वीरधवल खाड़े और संदीप सेजवाल जैसे कई शीर्ष तैराक शामिल हैं। तैराकी कोच ने हालांकि माना कि घरेलू दर्शकों की मौजूदगी भारतीय खिलाड़ियों के लिए काफी उत्साहजनक होगी और ये खिलाड़ी देशवासियों के सामने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना चाहेंगे।
     
उन्होंने कहा कि घरेलू परिस्थितियों से भारतीय खिलाड़ियों को फायदा होगा और देशवासियों के सामने वे बढ़े मनोबल के साथ खेलने उतरेंगे। तीन से 14 अक्टूबर तक राजधानी में होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों की तैराकी स्पर्धाओं में भारतीय खिलाड़ियों के सामने मुख्य चुनौती दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया के विश्व स्तर के तैराक पेश करेंगे।
     
अमीन ने कहा कि राष्ट्रमंडल खेलों में दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया के विश्व स्तर के तैराक मुख्य चुनौती पेश करेंगे। इन देशों के कुछ तैराक वर्तमान या पूर्व विश्व रिकॉर्ड धारक भी हैं।
     
श्यामा प्रसाद मुखर्जी तैराकी परिसर में हुए टेस्ट इवेंट के दौरान तैराकों ने निर्माण कार्य पूरा नहीं होने की शिकायत की थी लेकिन कोच को उम्मीद है कि खेलों से पहले सभी काम पूरे हो जाएंगे। कोच ने इस बात पर कहा कि टेस्ट इवेंट के समय वहां (एसपी मुखर्जी परिसर) काफी काम पूरा नहीं था लेकिन उम्मीद है कि जब तैराक खेलों से पहले अभ्यास करेंगे तब तक सभी काम पूरा हो जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:डोपिंग का तैयारियों पर कोई असर नहीं : तैराकी कोच