DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यूएस को प. एशिया की बात सुननी ही होगी: ओबामा

अमेरिका के राष्ट्रपति बराक आेबामा ने इजरायल और फिलिस्तीन के बीच शांतिवार्ता जारी रहने की जरूरत पर बल देते हुए इस मामले में सऊदी अरब के शासक अब्दुल्ला द्वारा पेश की गई अरब शांति योजना की सराहना की है। राष्ट्रपति बनने के बाद किसी अरबी चैनल को दिए पहले साक्षात्कार में आेबामा ने मंगलवार को कहा कि उनकी सरकार मुस्लिम देशों के साथ अमेरिकी रिश्ते मजबूत करने की दिशा में कारगर कदम उठाएगी। अल अरबिया चैनल से बातचीत में आेबामा ने कहा कि मौजूदा हालात में हमारे लिए सिर्फ इजरायल फिलिस्तीन के बारे में ही सोचना मुमकिन नहीं है बल्कि हमें यह भी देखना होगा कि ईरान, अफगानिस्तान, पाकिस्तान, सीरिया और लेबनान में क्या हो रहा है। आेबामा ने कहा कि उनकी सरकार ने चुनाव प्रचार के दौरान किए गए वादों को पूरा करने का काम शुरू कर दिया है। इसके लिए उन्होंने सीनेटर जॉर्ज मिशेल को पश्चिम एशिया के लिए शांति दूत नियुक्त कर दिया है। आेबामा ने कहा कि इजरायल और फिलिस्तीन से हम नहीं कह सकते कि उनके लिए शांति का बेहतर विकल्प कौन सा है बल्कि यह फैसला उन्हें स्वयं करना होगा और दोनों पक्ष इस काम में लगे हैं। उन्होंने कहा कि यह सही है कि फिलहाल इजरायल और फिलिस्तीन ने अपनी समस्या के समाधान के लिए जो रास्ता चुना था उससे दोनों पक्षों की जनता की स्थाई सुरक्षा और समृद्धि सुनिश्चित नहीं की जा सकती। इसलिए कुल मिला कर उन्हें शांति वार्ता जारी रखनी होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: यूएस को प. एशिया की बात सुननी ही होगी: ओबामा