DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विकलांगता नहीं आएगी सफलता के आड़े

विकलांगता नहीं आएगी सफलता के आड़े

आवेदन की अंतिम तिथि 31 सितम्बर, 2010

विकलांगता की मार से जूझ रहे युवाओं को न सिर्फ सामाजिक, बल्कि आर्थिक सहयोग की आवश्यकता होती है। केन्द्र और राज्य सरकार, सभी किसी न किसी रूप में ऐसे छात्रों की मदद के लिए आर्थिक सहायता का इंतजाम करते हैं। ऐसी ही एक स्कॉलरशिप सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय की ओर से ऐसे विकलांग छात्रों को दी जाती है, जो मान्यताप्राप्त संस्थानों से तकनीकी एवं व्यावसायिक पाठय़क्रमों की पढ़ाई कर रहे हैं।

योग्यता

इस छात्रवृत्ति को पाने के लिए सबसे पहली योग्यता निशक्त व्यक्ति अधिनियम 1995 के तहत निर्धारित मानकों के तहत आवेदक का कम से कम 40 फीसदी तक विकलांग होना जरूरी है। इस स्कॉलरशिप को पाने वाले छात्र की पारिवारिक आय 15 हजार रुपये मासिक से ज्यादा नहीं होनी चाहिए।

पाठय़क्रम व शैक्षणिक योग्यता

यह स्कॉलरशिप मान्यताप्राप्त शिक्षण संस्थानों में (पीएचडी/ एमफिल), सेकेंडरी व सीनियर सेकेंडरी स्तर के तकनीकी एवं व्यावसायिक पाठय़क्रमों के लिए प्रदान की जाती है।

मस्तिष्क विकार एवं बेहद कम सुनने वाले विकलांग छात्रों के लिए खास तौर पर विशेष प्रावधान है। इसमें छात्रों को सामान्य तकनीकी, व्यावसायिक पाठय़क्रमों के लिए स्कॉलरशिप प्रदान की जाती है। आवेदक की शैक्षणिक योग्यता आठवीं पास है।

स्कॉलरशिप की संख्या व सहायता

कुल 500 स्कॉलरशिप हर साल प्रदान की जाती हैं। इनमें अस्थि विकलांगता, नेत्रहीन-कम देख पाने वाले विकलांग, कम सुनने वाले छात्र-छात्रओं की प्रत्येक श्रेणी लिए 58-58 स्कॉलरशिप का इंतजाम है। इसके अलावा मस्तिष्क आघात व मानसिक मंदता के तहत भी 76 छात्र व 76 छात्राओं को यह स्कॉलरशिप प्रदान की जाती है। स्कॉलरशिप के तहत हॉस्टल में रहने वाले छात्र व अन्य छात्रों के लिए अलग-अलग सहायता का इंतजाम है। विभिन्न श्रेणियों के तहत अधिकतम एक हजार और न्यूनतम 400 रुपये की मासिक सहायता प्रदान की जाती है। इसके अलावा छात्रों के 10 हजार रुपये तक के पाठय़क्रम शुल्क का भी भुगतान किया जाता है।

अवधि

अवधि एक साल निर्धारित है। यह सहायता राशि सत्र 2010-11 के लिए प्रदान की जा रही है।

आवश्यक दस्तावेज

स्कॉलरशिप का लाभ एक पाठय़क्रम के लिए ही दिया जाता है। इसके अलावा इसे पाने के लिए अनिवार्य कागजी कार्रवाई भी बेहद जरूरी है, जैसे शैक्षणिक प्रमाण पत्र, पारिवारिक आय से जुड़ा प्रमाण पत्र और विकलांगता प्रमाण पत्र। इनके बिना आवेदन मान्य नहीं होगा। आवेदन पत्र के साथ छात्र को इन प्रमाणपत्रों की सत्यापित प्रतियां भी लगानी होंगी।
 
अधिक जानकारी के लिए सम्पर्क करें
नेशनल हैंडीकैप्ड फाइनेंस एंड डेवलपमेंट कॉरपोरेशन, रेड क्रॉस भवन, सेक्टर-12, फरीदाबाद
वेबसाइट- www.nhfdc.org

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विकलांगता नहीं आएगी सफलता के आड़े