DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एक्स्ट्रानेट

इंट्रानेट के बारे में हम जानते ही हैं। यह लोकल एरिया नेटवर्क से तैयार किया जाने वाला सिस्टम होता है। वास्तव में यह मूल रूप से एचटीएमएल का एक सेट होता है, जो कंपनी के आंतरिक बिजनेस के लिए काम आता है, लेकिन इसका उपयोग केवल उसी कपंनी के कर्मचारी कर सकते हैं और यह इंटरनेट पर उपलब्ध नहीं होता। अगर उसे यूजरनेम और पासवर्ड देकर एक सिस्टम के जरिए इंटरनेट से जोड़ा जाए तो एक्स्ट्रानेट बन जाता है।

ऐसे देखें तो एक्स्ट्रानेट, इंट्रानेट का विस्तार ही है। एक्स्ट्रानेट के जरिए कंपनी के कर्मचारियों, ग्राहकों, खरीदारों और पार्टनर के बारे में जानकारी मिलती है। इससे नेटवर्क पब्लिक के लिए रास्ता खुल जाता है और कोई भी इंटरनेट का इस्तेमाल कर कंपनी के बारे में जान सकता है।

इसमें एक प्रोटोकॉल का उपयोग किया जाता है, हालांकि इसका नियंत्रण कंपनी के सर्वर से ही होता है, पब्लिक इंटरनेट सर्वर से नहीं। पासवर्ड और यूजरनेम का उपयोग कर एक्स्ट्रानेट पर पकड़ बनाए रखी जाती है। इसका उपयोग करने वालों के लिए यह जरूरी होता है कि वे इसकी सीमाओं को ध्यान में रखें।

इसका सबसे महत्वपूर्ण उपयोग कस्टमर सर्विस में होता है। ऑनलाइन पैच, अपग्रेड, डाउनलोड, नॉलेज एक्सेस और इंटरेक्टिव हेल्प डेस्क इसके अन्य काम हैं। ये वे सुविधाएं हैं, जिनका फायदा एक आम उपभोक्ता आसानी से उठा सकता है। 

एक्स्ट्रानेट चैट बोर्ड पर कंपनी अपने भविष्य के उत्पादों और आगे होने वाले विकास की रूपरेखा पर चर्चा कर सकती है, जिससे अंतत: उसके बिजनेस के बारे में लोगों को जानकारी होती रहती है। एक्स्ट्रानेट के जरिए एक कंपनी अपने पार्टनर्स और रिसेलर्स से भी जुड़ी रह सकती है।

इस सेवा का उपयोग कर कंपनी डाटा शेयरिंग, रिसर्च सेल रिपोर्ट और मार्केटिंग के अन्य हथियार भी इस्तेमाल कर सकती है। एक एक्स्ट्रानेट नेटवर्क दूसरे से इंटरनेट प्रोटोकॉल की एक कॉमन भाषा से जुड़ सकता है। इससे उन संगठनों को काफी मदद मिल सकती है, जो किसी समान मकसद के लिए कार्यरत हों।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एक्स्ट्रानेट