DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नक्सलियों से निपटने के लिए 4000 अर्धसैनिकों की मांग

बिहार सरकार ने राज्य में नक्सल हिंसा में अचानक आई तेजी से निपटने के लिए केन्द्र से अर्ध सैनिक बलों के 4000 अतिरिक्त कर्मियों की मांग की है। आधिकारिक सूत्रों ने शुक्रवार को बताया कि 40 कंपनियां के अनुरोध पर गृह मंत्रालय विचार कर रहा है तथा शीघ्र ही निर्णय किया जाएगा।

बिहार में 2400 अर्ध सैनिक कर्मी पहले से ही मौजूद हैं और माओवादियों से निपटने में राज्य पुलिस की मदद कर रहे हैं।
 सूत्रों ने बताया कि एक व्यापक योजना बनाई जा रही है ताकि संयुक्त अभियान के जरिए बिहार-झारखंड सीमा के आस-पास छिपे उग्रवादियों को खदेड़ा जा सके।

उधर बिहार में माओवादियों द्वारा बंधक बनाए गए चार पुलिसकर्मियों में से एक का गोलियों से छलनी शव शुक्रवार को लखीसराय से बरामद किया गया जिसकी शिनाख्त बीएमपी के जवान लूकस टेटे के रूप में हुई है, जबकि अन्य तीन के बारे में अब तक कोई जानकारी नहीं है।

माओवादियों द्वारा उनकी मांगों को पूरी करने के लिए तय की गई नई समय सीमा शुक्रवार सुबह दस बजे समाप्त हो गई। मुंगेर के पुलिस उपमहानिरीक्षक शाहरुख मजीद ने नक्सलियों द्वारा बंधक बनाए गए एक पुलिसकर्मी की हत्या कर दिए जाने की शुक्रवार को पुष्टि करते हुए बताया कि पुलिसकर्मी का नाम लूकस टेटे है और उनका शव पुलिस ने कजरा थाना अंतर्गत सिमरातरी गांव में एक सड़क किनारे से बरामद किया है।

नक्सलियों के प्रवक्ता अविनाश ने हालांकि गुरुवार को दावा किया था कि पुलिसकर्मी अभय यादव की हत्या कर दी गई है लेकिन इसकी कोई पुष्टि नहीं हुई थी और न ही उनका शव मिला था। मजीद ने बताया कि टेटे के शव के पास एक पर्चा मिला है जिसमें माओवादियों ने धमकी दी है कि उनके आठ साथियों की जल्द रिहाई की जाये अन्यथा शेष तीन पुलिस कर्मियों की भी हत्या कर दी जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नक्सलियों से निपटने के लिए 4000 अर्धसैनिकों की मांग