DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

किसान का बेटा हूं इसलिए दर्द समझता हूं- राजनाथ सिंह

किसानों की चिंता न तो केंद्र सरकार को है और न ही उत्तर प्रदेश सरकार को। जगह-जगह किसानों को प्रताड़ित किया जा रहा है। भूमि अधिग्रहण विधेयक को लेकर संसद में दो साल से मामला अटक रहा है। इसके लिए किसानों का संघर्ष लगातार जारी है। मैं भी एक किसान का बेटा हूं इसलिए उनका दर्द भलीभांति समझता हूं। चाहे संसद की कार्यवाही बाधित ही क्यों न करनी पड़े, इस बार भूमि अधिग्रहण संसोधन बिल पास कराकर ही दम लेंगे। वसुंधरा स्थित मुकुट बैंकट हाल में आयोजित अंतर्राज्यीय परिचर्चा में आए सांसद राजनाथ सिंह ने यह बात कही।


उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार किसानों को प्रताड़ित करने पर आमादा है। उनकी जमीन के साथ धोखा किया जा रहा है। जब तक संसोधन बिल संसद में पास न हो किसानों की एक इंच भूमि भी अधिग्रहीत नहीं होनी चाहिए। राजनाथ सिंह ने कहा कि अलीगढ़ में अनशन पर बैठे बूढ़े किसानों को देखकर मेरी आंखें छलछला उठी थीं। सरकार चाहे जो भी करे, मगर एक भी किसान अगर मरा तो हम चुप नहीं बैठेंगे। पहली बार किसानों में जागरूकता दिखाई दे रही है। उन्होंने कहा कि किसानों के संघर्ष को लेकर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन गडकरी भी काफी संवेदनशील हैं। उन्होंने फैसला किया है कि किसानों के मुकदमे से लेकर अन्य जो भी खर्चा आएगा इसका वहन भारतीय जनता पार्टी करेगी।
वसुंधरा सेक्टर-13 स्थित मुकुट बैंक्वेट हाल में आयोजित परिचर्चा में पंजाब, गुजरात, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, बिहार आदि कई राज्यों से आए किसानों ने हिस्सा लिया। वहीं नोएडा, करहैड़ा, साहिबाबाद, कनावनी आदि आसपास ग्रामीण क्षेत्रों के किसान भी आए हुए थे। सभी ने अपने-अपने विचार परिचर्चा में रखे। इस मौके पर भाजपा राष्ट्रीय किसान मोर्चा के ओपी धनकड़, वी. सतीश, मुरलीधर राव, नरेश सिरोही आदि कई लोग मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:किसान का बेटा हूं इसलिए दर्द समझता हूं- राजनाथ सिंह