DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उप्र में घाघरा उफान पर, लाखों प्रभावित

उत्तर प्रदेश में बाराबंकी जिले के एल्गिन-चरसड़ी तटबंध टूटने से घाघरा का पानी आसपास के इलाकों में तेजी से फैल रहा है जिससे 100 से अधिक गांवों के करीब दो लाख लोग प्रभावित हुए हैं।

घाघरा के तेज बहाव से टूटे बाराबंकी के एल्गिन-चरसरी तटबंध का पानी सीमावर्ती जिले गोंडा के गांवों में तबाही मचा रहा है। गोंडा की कर्नलगंज और तरगंज तहसील में बाढ़ प्रभावित गांवों की संख्या तकरीबन 90 हो गई है।

गोंडा के जिलाधिकारी मधुकर द्विवेदी ने गुरुवार को बताया कि करीब दो लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं। प्रभावित लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है। राहत व बचाव कार्य के लिए 200 से ज्यादा नावें और करीब 20 मोटरबोट लगाई गई हैं। गोंडा जिले में सोनौली के पास घाघरा नदी पर बने भिखारीपुर-सिकरौर तटबंध पर कटान तेज हो गया है, जिससे आसपास के बरौली, मुकुंदपुर, दलेलनगर और फेहरा गांवों के लोगों में दहशत पैदा हो गई है।

द्विवेदी ने कहा कि कटान रोकने के हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। जिला प्रशासन के अधिकारी पूरे हालात पर नजर रखे हुए हैं। उन्होंने कहा कि तरबगंज और कर्नलगंज इलाकों में बाढ़ से चार लोगों की मौत हुई है।

इधर, बाराबंकी में एल्गिन-चरसरी तटबंध टूटने से हजारों ग्रामीण प्रभावित हुए हैं। जिले के जिलाधिकारी विकास गोसवाल ने बताया कि तटबंध टूटने से प्रभावित हुए करीब 25 गांवों के लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।

उन्होंने कहा कि तेज बहाव होने के कारण तटबंध में हो रहे कटान के फैलाव को रोकने में थोड़ी दिक्कतें आ रही हैं, लेकिन हालात पहले से बेहतर हो रहे हैं। उत्तराखंड स्थित बनबसा बैराज से काफी पानी छोड़े जाने और नेपाली नदियों का जलस्तर बढ़ने से घाघरा के जलस्तर में वृद्धि हुई है।

बहराइच में भी घाघरा नदी उफान पर है और तेज बहाव के कारण रेवली-आदमपुर तटंबंध के टूटने का खतरा मंडरा रहा है। बहराइच के जिलाअधिकारी रिग्जियान शैंफिल ने बताया कि तटबंध पर कटाव पहले की तुलना में थोड़ा कम हुआ है। जिन स्थानों पर कटान हो रहा है, वहां पत्थर और बालू की बोरियां डाली जा रही हैं।

बहराइच में बाढ़ से करीब 100 गांवों के एक लाख से अधिक लोग बेघर हो चुके हैं। सैकड़ों एकड़ फसल बाढ़ में डूबकर नष्ट हो चुकी है। राहत व बचाव कार्य में प्रशासन ने 265 नावें, 24 मोटरबोट, एक कंपनी प्रांतीय सशस्त्र बल (पीएसी) के जवानों को लगाया है। अधिकारियों का कहना है कि बाढ़ प्रभावित लखीमपुर खीरी, बहराइच, बाराबंकी और गोंडा जिलों में अब तक कुल 11 मौतें हो चुकी हैं। राज्य के मौसम विभाग ने विभिन्न इलाकों में अगले 24 घंटों के दौरान सामान्य बारिश की संभावना जताई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:उप्र में घाघरा उफान पर, लाखों प्रभावित