DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पाताल यात्रा कराने को तैयार दिल्ली मेट्रो

दिल्ली मेट्रो की कुतुब मीनार से केन्द्रीय सचिवालय लाइन के चालू होने के साथ ही दिल्लीवासी शान की इस सवारी में पाताल लोक की अब तक की सबसे लंबी यात्रा के लिए तैयार हो जाएं। पैंतालीस किलोमीटर लंबी इस लाइन के लगभग आधे हिस्से 24 किलोमीटर में मेट्रो भूमिगत सुरंग में दौडेगी।

शुक्रवार से शुरू होने वाली इस लाइन पर कुतुब मीनार के बाद साकेत से गुरूतेग बहादुर नगर तक के सभी स्टेशन भूमिगत हैं और इस दौरान यात्री जमीन से 15 से बीस मीटर नीचे सुरंग में यात्रा का आनंद ले सकेंगे। राजीव चौक और चावड़ी बाजार के आस पास यह गहराई 25 मीटर के आस पास पहुंच जाती है। वैसे मेट्रो सुरंग की गहराई हर स्टेशन के आस पास की भूमि और वहां पानी कितनी गहराई पर है इस पर निर्भर करती है लेकिन राजीव चौक पर यह लाइन नोएडा, द्वारका लाइन के नीचे चलेगी इसलिए वहां इसकी गहराई अधिक है।

कुतुब मीनार से हूड्डा सिटी सेन्टर तक मेट्रो इस वर्ष जून से ही चल रही है लेकिन कुतुब मीनार से आगे का इसका सफर शुक्रवार से शुरू हो जाएगा। शुक्रवार को केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री एस जयपाल रेड्डी, दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित की मौजूदगी में इस लाइन पर ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे। इसके बाद शाम तीन बजे इस लाइन को आम यात्रियों के लिए खोल दिया जाएगा। यह मेट्रो की पहली ऐसी लाइन है जिसे उद्घाटन के दिन ही यात्रियों के लिए खोला जा रहा है।

इस लाइन के चालू होने के बाद नोएडा के बाद गुडगांव राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र का मेट्रो के जरिए दिल्ली से जुड़ने वाला दूसरा शहर बन जाएगा। गुडगांव से जहांगीरपुरी का सफर लगभग एक घंटे बीस मिनट में पूरा होगा और इसके लिए यात्रियों को 29 रूपए खर्च करने होंगे।

मेट्रो की यह पहली लाइन है जो दक्षिणी दिल्ली को राजधानी के अन्य हिस्सों से जोड़ेगी। गुड़गांव लाइन पर शुरू में हर रोज एक लाख यात्रियों के सफर करने का अनुमान है। वर्ष 2011 तक यह आंकड़ा तीन लाख को पार कर जाएगा। इस लाइन के चालू होने के बाद मेट्रो का कुल नेटवर्क 138 किलोमीटर और इसके स्टेशनों की संख्या 117 तक पहुंच जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पाताल यात्रा कराने को तैयार दिल्ली मेट्रो