DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

'स्पॉट फिक्सिंग के लिए सबूत पर्याप्त'

'स्पॉट फिक्सिंग के लिए सबूत पर्याप्त'

क्रिकेट के प्रमुख स्पॉट फिक्सिंग का खुलासा करने वाले ब्रिटिश टेबलायड के खेल संपादक ने बुधवार को कहा कि उनका पाकिस्तानी क्रिकेटरों को निशाना बनाने का कोई गुप्त एजेंडा नहीं था तथा जो सबूत जुटाए गए हैं वे कथित फिक्सरों को गिरफ्तार करने और तीनों खिलाड़ियों से पूछताछ करने के लिए पर्याप्त थे।

न्यूज़ ऑफ द वर्ल्ड के खेल संपादक पाल मैकार्थी ने कहा कि अपने स्टिंग ऑपरेशन में पाकिस्तानी क्रिकेटरों को निशाना बनाने का उनके प्रकाशन के फैसले के पीछे कोई गुप्त एजेंडा नहीं था। टैबलायड ने शुक्रवार को जब अपनी जांच से ब्रिटिश पुलिस को अवगत कराया तो पुलिस अधिकारी अगले दिन उनके कार्यालय आए और उन्हें जांच के दौरान की वीडियो फुटेज और टेप का अध्ययन किया।

मैकार्थी ने जियो न्यूज़ चैनल को दिए साक्षात्कार में कहा कि उन्होंने सबूतों को पर्याप्त पाया और वे कई घंटों तक यहां रहे। उन्हें लगा कि इस पर जवाब लेना चाहिए। हमने जो सबूत मुहैया कराए वे इसकी नींव थे। मैकार्थी से जब पूछा गया कि उन्होंने भारतीय सट्टेबाजी नेटवर्क और कथित तौर पर मैच फिक्सिंग में शामिल उसके खिलाड़ियों को निशाना क्यों नहीं बनाया, उन्होंने कहा कि उनके समाचार पत्र ने जो सबूत जुटाए उनका उद्देश्य केवल पाकिस्तानी टीम के अंदर व्याप्त भ्रष्टाचार को उजागर करना था।

उन्होंने कहा कि हमने अपनी स्टोरी पाकिस्तानी और तीनों खिलाड़ियों आसिफ, आमेर और सलमान बट्ट पर केंद्रित रखी जिनसे पुलिस पूछताछ कर रही है। इसके अलावा हमारा कोई भी अन्य एजेंडा नहीं था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:'स्पॉट फिक्सिंग के लिए सबूत पर्याप्त'