DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो टूक (01 सितंबर, 2010)

ये डेंगू के मच्छर वाकई नामुराद हैं। इनमें देशभक्ति की भावना तो नहीं ही थी, मेहमाननवाजी की परंपरा का भी ख्याल नहीं रखा। बेचारों को डरा दिया।

ऐन खेलों से पहले दो देशों को एडवाइजरी जारी कर अपने लोगों को आगाह करना पड़ा। लेकिन घबराएं नहीं। एमसीडी को 11 सितंबर को अमेरिका में हुए हमले में प्रेरणा दिखी है। उसने इसी दिन इन मच्छरों का खात्मा करने की योजना बनाई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दो टूक (01 सितंबर, 2010)