अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

साल के अंत तक पांच करोड़ नौकरियां जाएंगी

इस साल के अंत तक दुनियाभर में 5 करोड़ लोग नौकरी से हाथ गवां चुके होंगे। इस हिला देने वाले आकलन का खुलासा संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी ने बुधवार को किया। अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन (आईएलओ) के मुताबिक, आर्थिक मंदी के चलते पैदा हुए हालात से तकरीबन 5 करोड़ 10 लाख लोग यह साल खत्म होते-होते बेरोगार हो जाएंगे। संगठन का कहना कि अगर बेहद सकारात्मक ढंग से आकलन किया जाए तो भी 6.1 की बेरोगारी की दर से 2007 के मुकाबले 1 करोड़ 80 लाख और नौकरियां जाएंगी। इनमें खराब परिस्थितियों में काम करन वाल एवं जाखिम वाल राजगार शामिल हैं। चीजों को पूरी तरह से स्पष्ट रखते हुए आईएलओ की रिपोर्ट में कहा गया है कि अगर मंदी की हालत यही रही तो 200े अंत तक 3 करोड़ और लोगों की नौकरी जाएगी। इससे विश्व बेरोगारी की दर 6.5 पहुंच जाएगी, जबकि पिछले साल यह 6 फीसदी रही। आईएलआ न बुधवार को जारी अपनी वार्षिक ग्लाबल एंप्लायमेंट ट्रेंड्स रिपोर्ट में कहा है कि अगर स्थिति और खराब हुई ता विश्व में, खासतौर पर विकासशील दशों में करीब 20 कराड़ कामगार भयंकर गरीबी के जाल में फंस सकत हैं। अफ्रीका के कुछ इलाके और दक्षिए एशिया के श्रम बाजार की स्थितियां बेहद कठोर हैं और यहां काम करने वालों में गरीबों की संख्या भी काफी बड़ी है। रिपोर्ट के मुताबिक, उत्तरी अफ्रीका और मध्य एशिया में 2008 के अंत में बेरोगारी की दर सबसे ज्यादा रही। जहां उत्तरी अफ्रीका में यह दर 10.3 थी वहीं मध्य एशिया में यहीसदी रही। ज्यादातर नौकरियों का सृजन दक्षिण एशिया, दक्षिण-पूर्व एशिया और पूर्वी एशिया में हुआ, जबकि विकसित देशों और यूरोपीय यूनियन में नौ लाख नौकरियां गईं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पांच करोड़ नौकरियां जाएंगी