DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पाकिस्तान में हमले जारी रहेंगे:अमेरिका

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने पाकिस्तान के प्रति रुख और कड़ा कर लिया है। शपथ लेने के साथ ही ओबामा प्रशासन ने पाकिस्तान को सुधरने की चेतावनी दी थी, अब उसने कहा है कि पाकिस्तान में आतंकी ठिकानों पर मिसाइल हमले नहीं रुकेंगे। सीनेट की रक्षा मामलों की समिति के समक्ष रक्षा मंत्री रॉबर्ट गेट्स ने यह जानकारी दी। गेट्स के इस बयान पर पाकिस्तान ने चेतावनी दी है कि हमले जारी रहे तो उसे आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में अमेरिका का सहयोग करने पर विचार करना होगा।ड्ढr गेट्स ने कहा,‘पूर्व राष्ट्रपति बुश और वर्तमान राष्ट्रपति बराक ओबामा ने यह साफ कर दिया है कि हम हर उस जगह जाएँगे जहाँ अलकायदा के आतंकी होंगे और लगातार उनका पीछा करते रहेंगे।’ समिति के अध्यक्ष के यह पूछने पर कि क्या पाकिस्तान सरकार को इस निर्णय की जानकारी दे दी गई है। गेट्स ने कहा कि पाकिस्तान सरकार को ओबामा प्रशासन के इस निर्णय से अवगत करा दिया गया है। पिछले हफ्ते ही पाकिस्तान ने अमेरिका से यह कहते हुए मिसाइल हमले रोकने के लिए कहा था कि इससे आतंक के खिलाफ चल रही लड़ाई पर उल्टा प्रभाव पड़ेगा। इस समय अमेरिका की यात्रा पर आए पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने सीएनएन को दिए साक्षात्कार में भी इस बात का जिक्र किया कि मिसाइल हमलों से पाकिस्तान में अमेरिका की लोकप्रियता घट रही है।ड्ढr पाक विदेश विभाग के प्रवक्ता मो. सादिक ने कहा कि हमलों को लेकर अमेरिका और पाकिस्तान के बीच कोई द्विपक्षीय समझौता नहीं है। यह मुद्दा राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी और ज्वाइंट चीफ ऑफ स्टाफ समिति के प्रमुख जनरल तारिक माजिद की बैठक में भी उठा। टीवी चैनलों की खबर के मुताबिक जरदारी ने साफ किया कि इससे आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई को झटका लगेगा। जरदारी और माजिद ने क्षेत्र को मिसाइल हमलों से बचाने की रणनीति पर चर्चा की। सादिक ने कहा कि पाकिस्तान अलकायदा के खिलाफ कार्रवाई में सबसे आगे रहा है।ड्ढr ओबामा के शपथ लेने के बाद पिछले शुक्रवार को पाकिस्तान सीमा के अंदर वजीरिस्तान में अमेरिका ने दो मिसाइल हमले किए जिसमें 21 विदेशी आतंकवादी मार गए। पिछले एक साल में अमेरिका ने पाकिस्तान-अफगानिस्तान सीमा पर स्थित अलकायदा और तालिबान के ठिकानों पर 26 मिसाइल हमले किए हैं। रक्षा मंत्री गेट्स ने कहा कि बिना पाकिस्तान की मदद के यह लड़ाई नहीं जीती जा सकती लेकिन इस लड़ाई को जल्द खत्म करने के लिए सेना को बढ़ाया जाना जरूरी है। इसलिए रक्षा मंत्रालय सेना की दो और टुकड़ियों को एक हफ्ते और तीसरी टुकड़ी को आठ महीने के अंदर अफगानिस्तान भेजने की तैयारी कर रहा है। सेना की नई टुकड़ियों के आने से अफगानिस्तान में करीब 60 हाार अमेरिकी सैनिक हो जाएँगे। (पेट्र्र) इनसेट— मदद ली है खरात नहीं :जरदारीड्ढr वाशिंगटन। पाकिस्तानी राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी ने कहा है कि अमेरिका अपने हितों की रक्षा के लिए पाकिस्तान को आर्थिक मदद दे रहा था। हम कोई खरात नहीं माँग रहे थे। उन्होंने कहा कि अगर अमेरिका हमें आधुनिक हथियार और आर्थिक मदद मुहैया कराता रहे तो इससे कट्टरपंथियों को कुचलने में मदद मिलेगी। ‘द वाशिंगटन पोस्ट’ के लेख में जरदारी के हवाले से कहा गया है-‘बराक ओबामा को समझना चाहिए कि अगर पाकिस्तान को कट्टरपंथियों को हराना है तो पहले उसे स्थिर होना होगा। अमेरिका इसलिए मदद दे रहा था ताकि पाकिस्तान आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में मजबूत हो।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पाकिस्तान में हमले जारी रहेंगे:अमेरिका