फेडरर खिताब से एक कदम दूर - फेडरर खिताब से एक कदम दूर DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फेडरर खिताब से एक कदम दूर

अपनी ऐतिहासिक ग्रैंड स्लैम विजय की ओर बढ़ रहे स्विटरलैंड के रोर फेडरर ने गुरुवार को ऑस्ट्रेलियन ओपन के फाइनल में प्रवेश कर लिया है। फेडरर ने अमेरिका के एंडी रोडिक की आंधी को रोक लिया। उन्होंने रॉडिक को 6-2, 7-5, 7-5 से हराकर बाहर कर दिया। इस तरह 27 वर्षीय फेडरर ने रॉडिक पर अपना प्रभुत्व 16-2 के विजयी आंकड़े के साथ बरकरार रखा है। उन्होंने इसी स्तर पर रॉडिक को हराकर 2007 में खिताब जीता था। अब उनकी निगाह पीट संप्रास के 14 ग्रैंड स्लैम खिताब के रिकॉर्ड की बराबरी पर है। उन्हें रविवार को फाइनल में राफेल नदाल और फर्नाडो वेरदास्को के सेमीफाइनल के विजेता से भिड़ना है। दूसरी वरीयता प्राप्त फेडरर न रोडिक का पूर मैच में दबाव नहीं बनान दिया। फेडरर का यह 18वां ग्रैंडस्लैम फाइनल हागा। ऑस्ट्रलियाई आपन में खल तीनों फाइनल उन्होंन जीत हैं। जीत के बाद फेडरर न कहा, ‘एंडी जबर्दस्त खल रहा था। मुझ पता था कि उस हराना आसान नहीं हागा। मैंन अच्छा खला। बहुत मजा आया।’ उधर वर्डास्का के खिलाफ नदाल के जीतन क आसार ज्यादा है जिसस छठी बार इन दानों धुरंधरों का टनिसप्रमी किसी ग्रैंडस्लैम में भिड़त दख सकेंग। महिलाओं में तीन बार की पूर्व चैंपियन सेरेना विलियम्स ने दमदार खेल का प्रदर्शन करते हुए फाइनल में प्रवेश कर लिया जहां पर उनकी भिडं़त बेहतरीन फार्म में चल रहीं तीसरी वरीयता प्राप्त दिनारा सफीना से होगी। दूसरी वरीयता प्राप्त अमरीका की सेरेना ने पहले सेमीफाइनल मैच में चौथी वरीयता प्राप्त रूस की एलेना देमेंतिएवा को 6-3, 6-4 से हराकर अपने चौथे ऑस्ट्रेलियन ओपन खिताब की तरफ एक और कदम बढ़ा दिया। दूसरे सेमीफाइनल में रूस की ही सफीना ने अपनी हमवतन वेरा जेवोनारेवा को 6-3, 7-6 से मात देकर खिताबी मुकाबले में प्रवेश किया। इस खिताबी संघर्ष को अमरीकी सेरेना और रूसी सफीना के बीच रोमांचक मुकाबले के रूप में देखा जा रहा है। सेरेना ने गत 15 मैचों से अपराजित चल रहीं देमेंतिएवा के खिलाफ अपने ताकतवर खेल का शानदार प्रदर्शन करते हुए मैच आसानी से जीत लिया। उन्होंने पहला सेट तो 44 मिनटों में 6-3 से जीतकर मैच पर अपनी पकड़ मजबूत कर ली लेकिन दूसरे सेट में एक समय उन्हें 0-3 से पिछड़ना पड़ा। उस समय देमेंतिएवा वापसी के मूड में लग रही थीं लेकिन सेरेना ने अपने जुझारू रवैए का परिचय देते हुए रूसी खिलाड़ी को रोक दिया। जल्द ही उन्होंने 3-3 की बराबरी कर ली और फिर देमेंतिएवा की सर्विस तोड॥कर मैच भी अपने कब्जे में कर लिया। सेरेना ने इस परिणाम पर असंतोष व्यक्त करते हुए कहा कि मैं परफेक्ट मैच नहीं खेल सकी। हालांकि यह काफी अच्छा मैच रहा। मैंने सर्विस भी अच्छी की और यही बात देमेंतिएवा के खिलाफ निर्णायक साबित हुई। वैसे अब मेरी नजर सफीना से होने वाले खिताबी मुकाबले पर टिकी है। उन्होंने कहा कि लोग कह रहे हैं कि सफीना को हराने पर मैं दुनिया की नंबर एक खिलाड़ी बन जाऊंगी। लेकिन मेरे लिए रैंकिंग कोई खास मायने नहीं रखती। मैं तो बस ग्रैंड स्लैम खिताबों की अपनी झोली में एक और ट्रॉफी जोड॥कर उनकी संख्या दहाई में पहुंचाना चाहती हूं। दिनारा सफीना ने इसे अपने लिए बेहद यादगार क्षण बताते हुए कहा कि बचपन से ही मेरा सपना था कि एक दिन मैं नंबर एक खिलाड़ी बनूंगी। अब फाइनल में सेरेना जैसी मजबूत प्रतिद्वंद्वी को हराकर मेरे सामने न सिर्फ नंबर वन बनने का मौका होगा बल्कि मैं अपना पहला ग्रैंडस्लैम भी जीतूंगी।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: फेडरर खिताब से एक कदम दूर