अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ऋण की सौगात के साथ बांग्लादेश पहुंचे प्रणब

ऋण की सौगात के साथ बांग्लादेश पहुंचे प्रणब

भारत से बांग्लादेश के लिए एक अरब डॉलर (करीब 46 अरब रुपए) की ऋण सहायता का पैकेज लेकर पहुंचे वित्तमंत्री प्रणब मुखर्जी का शनिवार को गर्मजोशी से स्वागत किया गया।

मुखर्जी की बांग्लादेश यात्रा महज चार घंटे की है। इस दौरान वह प्रधानमंत्री शेख हसीना से भी मुलाकात करेंगे। हसीना की जनवरी में हुई भारत यात्रा के बाद भारत का कोई बड़ा नेता पहली बार ढाका आया है। ढाका के हजरत शाह जलाल हवाई अड्डे पर उतरने के बाद मुखर्जी का भव्य स्वागत किया गया। वह भारतीय सेना के विशेष जेट विमान से पहुंचे। उनके स्वागत में हवाई अड्डे पर उन्हें लाल जाजिम पर उतारा गया। उनके स्वागत में बांग्लादेश के वित्तमंत्री अबुल माल अब्दुल मुहित उपस्थित थे।

मुखर्जी ने आगमन पर जारी वक्तव्य में कहा, हम बांग्लादेश के विकास में मदद के लिए प्रतिबद्ध हैं। उनकी इस यात्रा के दौरान एक अरब डॉलर के ऋण समझौते पर हस्ताक्षर किए जाएंगे। किसी एक समझौते में बांग्लादेश का इतना बड़ा ऋण पहली बार मिल रहा है। वह ढाका में संक्षिप्त प्रवास में वित्त मंत्री मुहिथ के अलावा विदेश मंत्री दीपू मोनी और प्रधानमंत्री हसीना से अलग-अलग बातचीत करेंगे।

मुखर्जी ने कहा कि प्रधानमंत्री हसीना की पिछली ऐतिहासिक भारत यात्रा के बाद दोनों देशों के संबंधों में नए आयाम जुड़े हैं। उन्होंने कहा कि उस यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री हसीना और प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह द्वारा जारी व्यापक और उम्मीदों से भरपूर संयुक्त घोषणापत्र पर अमल में काफी प्रगति हुई है। उसक अनुसार कई कदम उठाए जा चुके हैं।

मुखर्जी ने भारत और बांग्लादेश की संबंधों की घनिष्टता का उल्लेख करते हुए कहा कि यह संबंध साझी विरासत, इतिहास, भाषाई और सांस्कृतिक एकता पर आधारित हैं। मुखर्जी ने दोनों देशों की जनता की भलाई के लिए इन संबंधों को और प्रगाढ़ करने की जरूरत पर बल दिया।

ऋण समझौते पर भारत के एक्जिम बैंक और बांग्लादेश के आर्थिक संबंध विभाग के अधिकारी द्वारा हस्ताक्षर किये जाएंगे। यह ऋण रेलवे, दूरसंचार और अन्य बुनियादी ढांचों की 14 परियोजनाओं पर खर्च किया जाएगा। इन परियोजनाओं से भारत को बांग्लादेश के रास्ते अपने पूर्वोत्तर क्षेत्र के राज्यों को रसद आपूर्ति में भी सुविधा होगी।

बांग्लादेश के वाणिज्य मंत्री फारूख खान ने शुक्रवार को कहा था कि उनका देश चाहता है कि भारतीय बाजार में बांग्लादेश की वस्तुओं के प्रवेश के मार्ग में सीमा-शुल्क और दूसरी तरह की बाधाओं को शीघ्रता से दूर किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि जनवरी की शेख हसीना की भारत यात्रा में इसको लेकर भी सहमति बनी थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ऋण की सौगात के साथ बांग्लादेश पहुंचे प्रणब