DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मरांडी के नेतृत्व में क्षेत्रीय गठबंधन से परहेज नहीं

आदिवासी मुद्दों के कट्टर हिमायती झारखंड जनाधिकार मंच तथा झारखंड दिशोम पार्टी (झादिपा) ने राज्य में एक नए राजनीतिक ध्रुवीकरण के संकेत देते हुए शनिवार को कहा कि दोनों दल झारखंड विकास मोर्चा (झाविको) के अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी को अगला मुख्यमंत्री बनाने के लिए क्षेत्रीय दलों का एक नया गठबंधन बनाने के खिलाफ नहीं हैं।

मंच के अध्यक्ष बंधु तिर्की तथा झादिपा के संस्थापक सालखन मुर्मू ने कहा कि राष्ट्रीय दल झारखंड के भूमिपुत्रों के सपनों को सच करने की सोच और भावना नहीं रखते। पिछले दस साल में झारखंड के आदिवासी मूलवासी मालिक से भिखारी बन गए हैं। सभी प्रमुख पार्टियों को शासन का मौका मिला पर आदिवासी मूलवासी के लिए किसी ने कुछ नहीं किया।

झारखंड मुक्ति मोर्चा और इसके नेता शिबू सोरेन ने तो आदिवासियों को और निराश किया। तीन बार मुख्यमंत्री बनने के बावजूद उन्होंने उनके लिए कुछ नहीं किया। केवल पद, पैसा और परिवार की परिक्रमा करने वाले सोरेन से अब और कोई उम्मीद रखना पत्थर में तीर मारने की तरह है। इसलिए अन्य झारखंडी दलों को एकजुट होकर कुछ नया करना होगा। इसके लिए मंच और झादिपा मिलकर पहल करेंगे।

उन्होंने कहा कि मरांडी के नेतृत्व वाला झाविमों एक क्षेत्रीय दल है, इसलिए हमें उन्हें साथ लेकर चलने में कोई परहेज नहीं है। एक प्रश्न के उत्तर में दोनो नेताओं ने कहा कि राष्ट्रीय दल कांग्रेस के साथ झाविमों की दूरी तेजी से बढ़ रही है। क्षेत्रीय दलों के नए गठबंधन की ओर से मरांडी को अगले मुख्यमंत्री के तौर पर पेश किए जाने पर भी उन्हें कोई एतराज नहीं होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मरांडी के नेतृत्व में क्षेत्रीय गठबंधन से परहेज नहीं