अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लक्ष्मण ने फिर खेली एक बेहतरीन पारी

लक्ष्मण ने फिर खेली एक बेहतरीन पारी

भारतीय क्रिकेट के संकट मोचक माने जाने वाले वेरी-वेरी स्पेशल वीवीएस लक्ष्मण ने आखिर लंका जीत ली। लक्ष्मण ने श्रीलंका के खिलाफ तीसरे और अंतिम टेस्ट के आखिरी दिन शनिवार को नाबाद 103  रन की बेश कीमती पारी खेलकर भारत को पांच विकेट से जीत और सीरीज में 1-1 की बराबरी दिला दी।

 यह लक्ष्मण का ही स्पेशल प्रयास था जो भारत संकट में फंसने के बावजूद मैच जीतने में सफल रहा। लक्ष्मण को अपनी शतकीय पारी के दौरान पीठ में खिंचाव आ गया था और उसके बाद उन्हें वीरेंद्र सहवाग को रनर के रूप में लेकर बल्लेबाजी करनी पड़ी।
 
इसके बावजूद लक्ष्मण ने अपने नाम की प्रतिष्ठा के अनुरूप श्रीलंकाई गेंदबाजों को लक्ष्मण रेखा पार नहीं  करने दी और अपना 16 वां टेस्ट शतक बनाने के साथ भारत को बेहतरीन जीत दिला दी। इस स्टाइलिश बल्लेबाज ने 149  गेंदों में 12 चौकों की मदद से अपना 16 वां टेस्ट शतक बनाया जो उनका श्रीलंका के खिलाफ दूसरा टेस्ट शतक भी था।
 
लक्ष्मण ने अपने 113 वें टेस्ट में अपना 16 वां शतक बनाया है और इस शतक की तुलना उनकी उस 281  रन की अद्भुत पारी से की जा सकती है जो उन्होंने 2001  में आस्ट्रेलिया के खिलाफ फालोऑन करने के बाद खेली थी और भारत को ऐतिहासिक जीत दिलाई थी।
 
भारत को श्रीलंका के खिलाफ जीतने के लिए 257  रन बनाने थे और टर्न तथा उछाल ले रही पिच पर किसी एक बल्लेबाज के विकेट पर टिक कर खेलने की जरूरत थी। लक्ष्मण ने आखिर वही काम किया जिसकी बदौलत उन्हें मैन ऑफ द मैच चुना गया।

वर्ष 2008  में पिछली सीरीज में लक्ष्मण श्रीलंका में बुरी तरह फ्लॉप रहे थे और अबूझ स्पिनर अजंता मेंडिस ने उन्हें खासा परेशान किया था लेकिन लक्ष्मण इस बार चट्टान की तरह डटे रहे और उन्होंने मेंडिस तथा सूरज रणदीव की स्पिन गेंदों को बखूबी खेला।

वेरी-वेरी स्पेशल लक्ष्मण के करियर का यह तीसरा मैन ऑफ द मैच पुरस्कार था। आखिरी बार वह 2002  में वेस्टइंडीज के खिलाफ त्रिनिडाड टेस्ट में मैन ऑफ द मैच बने थे। इसके अलावा उन्हें आस्ट्रेलिया के खिलाफ कोलकाता में भारत की ऐतिहासिक जीत में बेहतरीन 281  रन बनाने के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया था।
 
लक्ष्मण ने इस शतकीय पारी के साथ ही श्रीलंका के खिलाफ 13 टेस्टों में अपने 900  रन पूरे कर लिए। श्रीलंका के खिलाफ उन्होंने दो शतक और आठ अर्धशतक बनाए हैं। आस्ट्रेलिया और वेस्टइंडीज के बाद श्रीलंका ऐसी तीसरी टीम है जिसके खिलाफ लक्ष्मण ने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया है।
 
इस शतकीय पारी के साथ लक्ष्मण ने श्रीलंका की जमीन पर अपना पहला शतक बनाकर 500  रन भी पूरे कर लिए। लक्ष्मण के श्रीलंका में अब सात टेस्टों में 530  रन हो गए हैं। मौजूदा वर्ष में लक्ष्मण पांच टेस्टों में 99.60  के अद्भुत औसत से 498  रन बना चुके हैं जिनमें दो शतक और तीन अर्धशतक शामिल हैं।
 
लक्ष्मण का मैच की चौथी पारी में यह पहला शतक है और यही शतक भारत को जीत दिलाने में निर्णायक साबित हुआ। इससे पहले तक उन्होंने मैच की चौथी पारी में चार अर्धशतक बनाए थे लेकिन उनके हाथ कभी शतक नहीं लगा था। मगर भारत को जब उनसे एक अद्द बेहतरीन पारी की जरूरत थी तो उन्होंने अपनी संकट मोचक शैली में शतक बनाकर भारत का मान सम्मान बचा लिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लक्ष्मण ने फिर खेली एक बेहतरीन पारी