अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन वार्ता पिछड़ रही है: ईयू

यूरोपीय संघ ने कहा है कि संयुक्त राष्ट्र की बॉन में जलवायु परिवर्तन पर जारी वार्ता अपने लक्ष्यों को हासिल करने में पिछड़ सकती है, क्योंकि अमेरिका और अन्य उत्सर्जनकर्ता देश उत्सर्जन के मामले में अपने हिस्से की प्रतिबद्धता को पूरा नहीं कर रहे हैं।

यूरोपीय संघ की जलवायु कार्रवाई आयुक्त कोन्नी हेडगार्ड ने कहा कि इस बातचीत में शामिल देश अपनी प्रतिबद्धताओं से पीछे हट रहे हैं। यह असंतुलन अगले दिसंबर में कानकुन में होने वाली जलवायु शिखर वार्ता को सफल बनाने और उससे अपेक्षित नतीजे प्राप्त करने की विश्व की आकांक्षा को खतरे में डाल सकता है।

उन्होंने चेतावनी दी कि यदि सब कुछ इसी गति से चलता रहा तो विश्व समुदाय अपने लक्ष्य प्राप्त नही कर पाएगा। बान में राजनयिकों ने कहा कि 194 सदस्यीय संयुक्त राष्ट्र का जलवायु परिवर्तन संबंधी मसौदा प्रस्ताव पर सहमति बन पाना कठिन है। पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाली गैसों के उर्त्सजनकर्ता देशों ने अभी भी उत्सर्जन में कटौती करने की बाध्यता को मानने से इंकार कर दिया है, जिससे कानकुन में होने वाले सम्मेलन के लिए मसौदे पर सहमति होने के आसार कम हो गए है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन वार्ता पिछड़ रही है: ईयू