DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत ने गंवाया मौका, अब हार का खतरा

भारत ने गंवाया मौका, अब हार का खतरा

थिलन समरवीरा और अजंता मेंडिस की साहसिक बल्लेबाजी से मैच पर अपनी मजबूत पकड़ को बेहद ढीली करने वाले भारत पर सूरज रणदीव के कहर से अब तीसरे और अंतिम टेस्ट क्रिकेट मैच में हार का खतरा मंडराने लगा है।

भारत के लिए शुक्रवार को चौथे दिन का खेल उतार-चढ़ाव वाला रहा। भारत ने एक समय श्रीलंका के सात विकेट 87 रन पर उखाड़ दिए थे लेकिन उसने इसके बाद श्रीलंका को वापसी का मौका देकर मैच में जीत दर्ज करके सीरीज 1-1 से बराबर करने का महत्वपूर्ण मौका गंवा दिया। इसके लिए समरवीरा (83) और विशेषकर मेंडिस (78) जिम्मेदार रहे जिन्होंने नौवें विकेट के लिए 118 रन की साझेदारी करके श्रीलंका का दूसरी पारी का स्कोर 267 रन तक पहुंचाया।

पी सारा ओवल की टूटती पिच पर 257 रन के मुश्किल लक्ष्य का पीछा करने के लिए उतरे भारत की शुरुआत बेहद नाजुक रही और चौथे दिन का खेल समाप्त होने तक वह तीन विकेट पर 53 रन बनाकर संघर्ष कर रहा है। भारत को अब भी जीत के लिए 204 रन की दरकार है लेकिन पांचवें दिन इस पिच पर बल्लेबाजी करना बहुत मुश्किल होगा। अभी सचिन तेंदुलकर 11 और नाइटवाचमैन ईशांत शर्मा दो रन बनाकर क्रीज हैं।

भारत पर श्रीलंका के दोनों स्पिनर हावी रहे। मेंडिस ने यदि बल्ले से कमाल दिखाया तो सूरज रणदीव ने गेंदबाजी में भारतीयों को झटके दिए। कुमार संगकारा ने इस ऑफ स्पिनर को नई गेंद सौंपी उन्होंने जल्द ही वीरेंद्र सहवाग (0), राहुल द्रविड़ (7) और मुरली विजय (27) को पवेलियन की राह दिखाकर मैच पर श्रीलंका का शिकंजा मजबूत कर दिया।

सहवाग रणदीव के पहले ओवर में ही उछाल लेती गेंद को रक्षात्मक रूप से खेलने के लिए आगे बढ़ गए जो उनके बल्ले का किनारा लेकर महेला जयवर्धने के सुरक्षित हाथों में चली गई। सहवाग का इस तरह से चौथी पारी में खराब प्रदर्शन जारी रहा। चौथी पारी में अब तक उनके नाम पर केवल 28.73 की औसत से केवल 546 रन दर्ज हैं।

द्रविड़ इस सीरीज में फिर से भरोसेमंद साबित नहीं हो पाए और रणदीव की तेजी से स्पिन लेती गेंद को डिफेंड करने के प्रयास में बोल्ड हो गए। इस तरह से द्रविड़ ने तीन मैच की इस सीरीज में केवल 95 रन बनाए।

रणदीव ने इसके बाद सलामी बल्लेबाज विजय को भी पवेलियन भेजा जिन्होंने इससे पहले कुछ अच्छे शाट लगाए। इस ऑफ स्पिनर की लेग और मिडिल स्टंप पर उछाल लेती गेंद विजय के बल्ले के ऊपरी हिस्से से लगकर बैकवर्ड शार्ट लेग पर जयवर्धने के पास पहुंची जिन्होंने काफी निचला कैच लिया। इसके लिए अंपायरों को हालांकि तीसरे अंपायर की मदद लेनी पड़ी।

इससे पहले भारत ने मैच पर अपनी मजबूत पकड़ बना ली थी। सहवाग ने गुरुवार को श्रीलंका का शीर्ष क्रम झकझोरा था तो आज प्रज्ञान ओझा और अमित मिश्रा ने उसके मध्यक्रम को ध्वस्त किया लेकिन समरवीरा और मेंडिस ने भारत की उम्मीदों को गहरा आघात पहुंचाया। इन दोनों ने नौवें विकेट की साझेदारी श्रीलंका की तरफ से नया रिकार्ड बनाया। मेंडिस भारतीय गेंदबाजों पर कितना हावी थे उसका अंदाजा इसी से लग सकता है कि उन्होंने श्रीलंकाई पारी में सर्वाधिक 157 गेंद खेली, सर्वाधिक दस चौके और पारी का एकमात्र छक्का लगाया।

सुबह का सत्र हालांकि पूरी तरह से भारत के नाम पर रहा। श्रीलंका ने सुबह दो विकेट पर 45 रन से आगे खेलते हुए नाइटवाचमैन रणदीव के रूप में पहला विकेट गंवाया जिन्हें ओझा ने पगबाधा आउट किया। बाएं हाथ के इस गेंदबाज ने महेला जयवर्धने (5) को द्रविड़ के हाथों कैच कराया।

ओझा ने इसके बाद संगकारा (28) को सुरेश रैना के हाथों कैच कराकर श्रीलंका को करारा झटका दिया। एंजेलो मैथ्यूज (5) भी मिश्रा की नीची फुलटास पर तेंदुलकर को मिडविकेट पर कैच थमा बैठे। इस लेग स्पिनर ने अगली गेंद पर विकेटकीपर प्रसन्ना जयवर्धने को भी पगबाधा आउट कर दिया। समरवीरा और लेसिथ मलिंगा (15) ने कुछ देर भारतीय गेंदबाजों को सफलता से महरूम रखा। मलिंगा ने ओझा पर दो चौके मारे लेकिन सहवाग ने सीधी गेंद पर पगबाधा आउट करके उनकी पारी का अंत कर दिया। समरवीरा ने पूरी जिम्मेदारी से बल्लेबाजी की तथा एक दो रन लेकर स्कोर आगे बढ़ाया जबकि कैरम बाल के गेंदबाज मेंडिस ने ओझा की गेंद पर श्रीलंकाई पारी का पहला छक्का भी जमाया।

इन दोनों की साझेदारी को आखिर तीसरे सत्र में नई गेंद लेने के बाद अभिमन्यु मिथुन ने तोड़ा लेकिन तब गेंदबाज के कौशल से नहीं बल्कि समरवीरा की गलती से यह विकेट भारत को मिला। उन्होंने मिथुन के ओवर के बाउंसर पर पुल करने की कोशिश की लेकिन वह उनके दस्तानों को चूमकर महेंद्र सिंह धोनी के पास चली गई। समरवीरा ने 139 गेंद खेली तथा छह चौके लगाए।

समरवीरा के आउट होने के बाद मेंडिस अधिक आक्रामक हो गए और उन्होंने इसके तुरंत बाद इशांत पर लगातार तीन चौके जमाए। आखिर में मिश्रा की गेंद पर करारा शाट जमाने के प्रयास में उन्होंने शार्ट एक्स्ट्रा कवर पर रैना को कैच थमाया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भारत ने गंवाया मौका, अब हार का खतरा