DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उप्र में प्रमुख नदियां उफान पर, बाढ़ का खतरा

उत्तर प्रदेश में बारिश और नेपाल की सुहेली तथा मुहाना नदियों व बनबसा बैराज से पानी छोड़े जाने के कारण राज्य के कुछ जिलों में बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है।

राज्य में गंगा, यमुना, शारदा, घाघरा, रामगंगा और अन्य नदियां उफान पर हैं। एक-दो स्थानों पर नदियों का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर पहुंच गया है। लखीमपुर खीरी, बहराइच, बदांयू, पीलीभीत, बाराबंकी, और सीतापुर जिलों के निचले इलाकों में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है।

लखीमपुर खीरी के अपर जिलाधिकारी (वित्त) तुलसी राम ने गुरुवार को बताया, ''नेपाल की सुहेली और मुहाना नदियों व बनबसा बैराज से पानी छोड़े जाने के कारण जिले में शारदा नदी का जलस्तर खतरे के निशान से तीन सेंटीमीटर ऊपर बह रहा है।''

उन्होंने कहा कि शारदा नदी से सटे पलिया और निघासन तहसील के निचले इलाकों के पांच-छह गांवों में नदी का पानी प्रवेश कर गया है, लेकिन स्थिति अभी नियंत्रण में है। जिला प्रशासन पूरी तरह से स्थिति पर नजर रखे हुए है। प्रांतीय शस्त्र बल (पीएसी) को सतर्क कर दिया गया है। जिलाधिकारी समीर वर्मा ने गुरुवार को बताया कि फिलहाल स्थिति नियंत्रण में है।

उधर, बहराइच और बाराबंकी में घाघरा नदियों का जलस्तर खतरे के निशान के करीब पहुंच गया है। बहराइच के अपर जिलाधिकारी (वित्त) सुखलाल भारती ने बताया, ''जिले के गिरिजा बैराज पर घाघरा नदी का जलस्तर खतरे के निशान से दो सेंटीमीटर नीचे बह रहा है। फिलहाल जिले में बाढ़ जैसे हालात नहीं हैं। घाघरा नदी से सटे कुछ इलाकों के खेतों में नदी का पानी जरूर प्रवेश कर गया है। आस-पास के लोगों को सतर्क कर दिया गया है।''

बाराबंकी जिले के कुछ गांवों में भी घाघरा नदी का पानी घुस गया है। जिलाधिकारी विकास गोसवाल ने बताया कि रामनगर तहसील के तीन-चार गांवों में घाघरा का पानी प्रवेश कर गया है। प्रभावित गांवों में जिला प्रशासन की तरफ से ग्रामीणों की मदद की जा रही है। फिलहाल इन इलाकों में पानी तेजी से उतर रहा है। हालात पूरी तरह से नियंत्रण में हैं।

बदायूं में गंगा और रामगंगा नदियों का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है। जिले के अपर जिलाधिकारी (वित्त) मनोज कुमार ने कहा कि फिलहाल दोनों नदियां खतरे के निशान से नीचे हैं। आने वाले दिनों में अगर बाढ़ जैसे हालात पैदा हुए तो जिला प्रशासन उसके लिए पूरी तरह से तैयार है। राज्य सरकार की तरफ से पिछले दिनों बाढ़ संभावित 20 जिलों के लिए 12 करोड़ रूपए की आर्थिक मदद देने की घोषणा की गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:उप्र में प्रमुख नदियां उफान पर, बाढ़ का खतरा