DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अब बिना चीरे के होगी मस्तिष्क की सर्जरी

अब बिना चीरे के होगी मस्तिष्क की सर्जरी

गामा नाइफ के रूप में वैज्ञानिकों को बिना चीरे मस्तिष्क की सर्जरी का उपकरण मिल गया है। उनका दावा है कि वे अब बिना चीर-फाड़ के मस्तिष्क कैंसर से पीड़ित मरीजों के मस्तिष्क की न्यूरोलाजिकल सर्जरी कर सकते हैं।

सिडनी स्थित मैक्वायर विश्वविद्यालय अस्पताल ने गामा नाइफ का उपयोग कर पहली बार सर्जरी की। यह उपकरण मस्तिष्क कैंसर और मस्तिष्क संबंधी कई बीमारियों के इलाज के लिए बिना चीर फाड़ का इलाज करने का एक महत्वपूर्ण साधन है।

हालांकि नाम से यह किसी प्रकार का चाकू प्रतीत होता है लेकिन इलाज के समय रक्त या चीरा लगाने की दरकार नहीं पड़ती। इनके स्थान पर कोबाल्ट-60 स्रोतों से करीब 200 विकिरण पुंजों का सम्मिलन किया गया और मस्तिष्क के भीतर बिल्कुल सटीक सर्जरी की गई।

न्यूरोसर्जन डॉ. जान फ्यूलर ने कहा कि गामा नाइफ से इलाज पारंपरिक न्यूरोसर्जरी से बिल्कुल अलग प्रकार की है। फ्यूलर ने आस्ट्रेलिया में इससे पहले मरीज का इलाज किया।

फ्यूलर ने कहा कि हालांकि हमारे मरीज के मस्तिष्क के विभिन्न हिस्सों में कई रसौलियां थीं लेकिन केवल एक घंटे में हमने आपरेशन पूरा कर लिया। कोई चीरा नहीं लगाया और सारी प्रक्रिया के दौरान वह होश में रहा। निश्चेतक के रूप में उसे क्लोरोफार्म दिया गया। बाहरी ढांचे में इलाज के बाद कल रात ही उसे घर जाने की अनुमति दे दी गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अब बिना चीरे के होगी मस्तिष्क की सर्जरी