अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आम सहमति से सरकार बनाने पर सरन की पहल

आम सहमति से सरकार बनाने पर सरन की पहल

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के विशेष दूत श्याम सरन ने गुरुवार को नेपाली नेताओं से गहन बातचीत शुरू की, ताकि गहराते राजनैतिक संकट के बीच आम सहमति से सरकार बनाने में मदद मिल सके।

वरिष्ठ राजनयिक और पूर्व विदेश सचिव सरन बुधवार को यहां पहुंचे थे। उन्होंने राष्ट्रपति रामबरन यादव, माओवादी अध्यक्ष प्रचंड और नेपाली कांग्रेस के कार्यवाहक अध्यक्ष सुशील कोइराला से मुलाकात की। सरन ने यहां आने पर कहा कि मैं यहां अपने प्रधानमंत्री के विशेष दूत के तौर पर शांति और संविधान के लिए आम सहमति बनाने में मदद करने आया हूं।

नेपाली संसद में नए प्रधानमंत्री के निर्वाचन के लिए शुक्रवार को होने वाले चौथे दौर के मतदान से पहले सरन यहां पहुंचे हैं। नेपाली संसद अब तक शीर्ष पद के लिए नेता को निर्वाचित करने में विफल रही है। उनके यहां आगमन को महत्वपूर्ण माना जा रहा है। राष्ट्रपति कार्यालय के सूत्रों के अनुसार सरन ने बुधवार को राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति यादव से मुलाकात की। उन्होंने एकीकृत सीपीएन-माओवादी के अध्यक्ष प्रचंड और नेपाली कांग्रेस के नेता सुशील कोइराला से भी मुलाकात की।

सरन ने कहा है कि वह नेपाल में सभी राजनैतिक नेताओं से व्यापक बातचीत करेंगे और देखेंगे कि क्या इस संकट के समाधान के लिए आम सहमति बनाई जा सकती है। सरन ने कहा कि पड़ोसी देश के तौर पर नेपाल में राजनैतिक स्थिरता और आर्थिक खुशहाली में हमारी गहरी दिलचस्पी है। नेपाली कांग्रेस के प्रवक्ता अर्जुन नरसिंह के सी ने कहा कि हम देश की शांति प्रक्रिया और संविधान निर्माण की प्रक्रिया में भारत की ओर से दिखाई गई दिलचस्पी को सकारात्मक रूप में लेते हैं।

उन्होंने कहा कि देखते हैं कि यात्रा का क्या नतीजा रहता है। हालांकि, माओवादियों के उपाध्यक्ष नारायण काजी श्रेष्ठ ने कहा कि सरन ने कहा है कि उनकी यात्रा का उद्देश्य नेपाल भारत संबंधों को मजबूत बनाना है और नेपाल में सरकार गठन और भंग करने से उसका कोई लेना-देना नहीं है। भारत के साथ करीबी संबंध रखने वाले नेपाली कांग्रेस के नेता अमरेश कुमार सिंह ने कहा कि सरन के प्रयास पार्टियों के बीच राजनैतिक आम सहमति तैयार करने पर केंद्रित रहेंगे।

काठमांडो पोस्ट के अनुसार सिंह ने कहा कि सरन सरकार गठन के लिए आम सहमति तैयार करने के लिए यहां हैं और राजनैतिक दलों के बीच समझौता कराने का प्रयास करेंगे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री पद के लिए आम सहमति से जो भी प्रबल दावेदार निकलेगा भारत के उसका समर्थन करने की संभावना है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आम सहमति से सरकार बनाने पर सरन की पहल