DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चन्द्रशेखर आजाद कृषि विश्वविदयालय का नया चना है हरा सोना

चन्द्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविदयालय, कानपुर ने चने की एक नयी प्रजाति हरा सोना विकसित की है। अधिक पैदावार वाले इस चने में हल्की मिठास होती है और इसकी दाल और बेसन में हल्का हरापन होता है।

विश्वविद्यालय के दलहन विभाग के वरिष्ठ वैज्ञानिक प्रो एस बी एल श्रीवास्तव ने बुधवार को इस उपलब्धि की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि विभाग के वैज्ञानिकों ने कुछ समय पहले चने की एक प्रजाति सदा बहार 13 विकसित की थी लेकिन चूंकि इसके दाने काफी छोटे थे इसलिये यह किसानों और बाजार में लोकप्रिय नहीं हो सकी। इसी प्रजाति में और सुधार करते हुए हरा सोना प्रजाति विकसित की गयी है।

   
उन्होंने बताया कि पहले वाले सदाबहार चने में प्रति 1000  बीज पर करीब 140  ग्राम चने की पैदावार होती थी लेकिन इस हरा सोना प्रजाति से किसानों को प्रति 1000  बीज पर 220  ग्राम चने का दाना प्राप्त होगा। इसका कच्चा दाना तो खाने में जायकेदार होगा ही साथ ही साथ इसकी दाल,  बेसन गुणवत्तापरक होगा और स्वाद में थोड़ा मीठा होगा। इसके अलावा इसका हल्का हरा रंग भी लोगों को काफी लुभाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चन्द्रशेखर आजाद कृषि विश्वविदयालय का नया चना है हरा सोना