DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कप्तानी ने नहीं डाला बल्लेबाज़ी पर असर : बट्ट

कप्तानी ने नहीं डाला बल्लेबाज़ी पर असर : बट्ट

इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट में नाकाम रहे पाकिस्तानी कप्तान सलमान बट्ट ने कप्तानी के कारण अपनी बल्लेबाजी प्रभावित होने के आरोपों से इनकार किया।
 
ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले टेस्ट में टीम की हार के बाद शाहिद अफरीदी ने टेस्ट टीम की कप्तानी से इस्तीफा दे दिया था जिसके बाद बट्ट को कप्तान बनाया गया था। ऑस्ट्रेलिया दूसरा टेस्ट जीतकर सीरीज़ 1-1 से बराबर करने में कामयाब रहा था लेकिन इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट में बट्ट पहली पारी में एक और दूसरी पारी में आठ रन बनाकर आउट हो गए।

लेकिन बट्ट को नहीं लगता कि कप्तानी की ज़िम्मेदारी के कारण उन पर दबाव बढ़ा है और उनकी बल्लेबाजी प्रभावित हुई है। उन्होंने एक साक्षात्कार में कहा कि मुझे नहीं लगता कि कप्तानी का मेरी बल्लेबाजी फॉर्म से कुछ लेना देना है। मैं अब भी उतना की सहज हूं जितना ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ था जहां मैं टॉप स्कोरर रहा था।
 
उन्होंने कहा कि केवल वह ही नहीं बल्कि इंग्लैंड के कप्तान एंर्डयू स्ट्रॉस या कोई भी अन्य सलामी बल्लेबाज़ इस मैच में रन नहीं बना सका। उन्होंने कहा कि अगर कोई यह दावा करता है कि मैं कप्तानी का दबाव सह नहीं पा रहा तो वह यह भी देख ले कि ट्रेंट ब्रिज में विपक्षी कप्तान या उनके सलामी बल्लेबाजों ने कितने रन बनाए। हालांकि बट्ट ने आगामी मैचों में अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद जताई।
 
पाकिस्तानी कप्तान ने पहले टेस्ट में मिली हार के लिए इंग्लैंड के मध्य और निचले क्रम के बल्लेबाजों को तथा अपने गेंदबाजों को ज़िम्मेदार ठहराया जो गेंद को स्पिन कराने में नाकाम रहे। उन्होंने कहा कि पहली पारी में इयान मोर्गन और पॉल कॉलिंगवुड तथा दूसरी पारी में मैट प्रायर ने मैच हमारे हाथ से छीन लिया। दूसरी तरफ हमारे तेज़ गेंदबाज़ थक चुके थे और दानिश कनेरिया भी कोई योगदान नहीं दे सके। उन्होंने टीम के खराब क्षेत्ररक्षण की भी आलोचना की।
 
बट्ट ने उम्मीद जताई कि पूर्व कप्तान मोहम्मद यूसुफ के आने से टीम को ताकत मिलेगी। उन्होंने कहा कि
मुझे लगता है कि हमें मध्यक्रम में उनके अनुभव की ज़रूरत है। वह पाकिस्तान के बेहतरीन बल्लेबाजों में से हैं और उनके आने से टीम को मदद मिलेगी। हम उनके यहां पहुंचने का इंतजार कर रहे हैं।
 
यूसुफ का विरोध करने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि मैंने कभी यूसुफ की खिलाफत नहीं की। एक सीनियर खिलाड़ी होने के नाते मैं हमेशा उनका सम्मान करता आया हूं। चयनप्रक्रिया में मेरा कोई योगदान नहीं है। यह काम चयनकर्ताओं का है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कप्तानी ने नहीं डाला बल्लेबाज़ी पर असर : बट्ट