DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फर्जी स्टांप मामले में तेलगी को सात साल की सजा

फर्जी स्टांप मामले में तेलगी को सात साल की सजा

दिल्ली की एक अदालत ने फर्जी स्टांप पेपर घोटाले के मुख्य अभियुक्त अब्दुल करीम तेलगी को 2005 में ऐसे दस्तावेजों की बरामदगी से जुड़े एक मामले में सात साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है।

कड़कड़डूमा अदालत के अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट ने एचआईवी वायरस से पीड़ित तेलगी को यह सजा सुनाई है। बेंगलूर जेल में बंद तेलगी पर अदालत ने पांच लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है। सजा दिए जाने पर हुई बहस के दौरान अनवर अहमद खान ने अदालत से दोषी के प्रति इस आधार पर नरमी बरते जाने की मांग की कि वह पहले ही काफी कुछ झेल चुका है और कई सालों तक जेल में बंद रहा है।     

दूसरी ओर, अभियोजक ने यह कहते हुए तेलगी के लिए पर्याप्त सजा की मांग की कि उसने सरकारी दस्तावेजों का फर्जीवाड़ा किया है। गौरतलब है कि इस मामले में तेलगी को 2008 में दोषी करार दिया गया था।

आनंद जी थोराट और अशफाक मुल्ला नामक दो अन्य अभियुक्त इस मामले में सुनवाई का सामना कर रहे हैं। करीब पांच लाख रुपये कीमत के फर्जी स्टांप पेपर की बरामदगी के बाद आनंद विहार पुलिस थाने में 2005 में तीनों अभियुक्तों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। उच्चतम न्यायालय के आदेश पर इस मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी गई थी।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:फर्जी स्टांप मामले में तेलगी को सात साल की सजा