DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पिता-पुत्र समेत परिवार के अन्य सदस्य शामिल

दस दस के नोट दिखाकर लाखों रुपए के माल व कैश उड़ाने वाले ठक ठक गिरोह के पांच दक्षिण भारतीय बदमाशों को कोतवाली सेक्टर-20 पुलिस ने साउथ दिल्ली के स्पेशल स्टाफ की मदद से सोमवार रात को गिरफ्तार कर लिया। इन बदमाशों ने ही 16 जुलाई को सेक्टर-18 में दस दस के नोट दिखाकर राइटर्स कंपनी के गार्ड से 22 लाख रुपए उड़ा लिए थे। इस गैंग का सरगना अभी फरार है। इनके पास से मात्र पचास हजार रुपए बरामद किए गए हैं।


कोतवाली सेक्टर-20 पुलिस ने सेक्टर-18 से तिरूचिरापल्ली, तमिलनाडु निवासी पुरूषोत्तमम, लोकनाथन, शंकर, माएकृष्णन व एलशिवा को गिरफ्तार कर लिया। इन बदमाशों ने ही राइटर्स कंपनी के गार्ड को दस दस के नोट दिखाकर 22 लाख रुपए उड़ाए थे। इससे पहले भी इस गैंग ने सेक्टर-18 व जीआईपी के पास से एक दजर्न से अधिक लोगों को निशाना बनाया है। ये बदमाश घटना को अंजाम देने के बाद तमिलनाडु चले जाते हैं और फिर एक महीने के बाद वापस आते हैं। एसपी सिटी एच.एन. सिंह ने बताया कि ये बहुत ही कम पढ़े लिखे हैं लेकिन काफी शातिर है। उन्होंने बताया कि इसमें एक ही परिवार के लोग शामिल हैं। इसमें लोकनाथन, एलशिवा का पिता है। उन्होंने बताया कि शेष राशि की बरामदगी के लिए पुलिस की एक टीम तिरूचिरापल्ली भेजी जा रही है।   

लक्ष्मणन है गैंग का सरगना   
ठक ठक गिरोह का सरगना लक्ष्मणन है जो तिरूचिल्लापल्ली का ही रहने वाला है। लक्ष्मणन अभी फरार है। लक्ष्मणन गिरोह के बदमाश नोएडा, दिल्ली से लेकर एनसीआर के कई शहरों में आपराधिक घटनाओं को अंजाम देते हैं। इस गैंग के बदमाश पार्किग, मेट्रो स्टेशन से लेकर भीड़ भाड़ वाले इलाकों में लोगों को निशाना बनाते हैं।    

कैसे बनाते हैं निशाना   
अंतरराज्यीय संगठित गिरोह के बदमाश रेलवे-मेट्रो स्टेशन, बैंकों व एटीएम के समीप खड़ी गाड़ियों के पास दस दस के नोट बिखेर देते हैं और गाड़ी में बैठे ड्राइवर या व्क्ति को बिखेरे हुए रुपयों की ओर ध्यान आकर्षित कराकर वाहन में रखे पर्स, बैग व अन्य सामान ले जाते हैं। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ठक ठक गिरोह के सदस्य गिरफ्तार