DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

60 सीटे बढ़ाने की उम्मीद से छात्रों में खुशी की लहर

आखिरकार छात्रों के आंदोलन का रंग असर आया। डिग्री कालेजों में प्रवेश को लेकर छात्रों के आंदोलन की उस समय जीत हुई जब मंगलवार शाम विश्वविद्यालय ने मांग पर महरम लगाते हुए सीटे बढ़ाने की घोषणा कर दी। हालांकि इससे पूर्व मंगलवार सुबह कालेज गेट का ताला तोडने को लेकर छात्रों ने पुलिस प्रशासन के खिलाफ जमकर नाराजगी प्रकट की तथा नारेबाजी भी की।


गौरतलब है कि एम.एम डिग्री कालेज के छात्र सीटे बढ़ाने की मांग को लेकर पन्द्रह दिनों से आंदोलनरत थे। सोमवार को प्राचार्य व स्थानीय प्रशासन द्वारा संतोषजनक जबाब नहीं मिलने पर उग्र छात्रों ने कालेज गेट पर अपना ताला लगा दिया और चेतावनी दी कि जब तक सीटे नहीं बढ़ जाएगी ताला लगा रहा गया।
मंगलवार को जैसे ही प्राचार्य आर.सी लाल कालेज स्टाफ समेत कालेज में पहुंचा तो गेट ताला लगा देखा। जिसकी सूचना उन्होंने विश्वविद्यालय को दी  इससे विश्वविद्यालय समेत उच्च प्रशासनिक अधिकारियों में हडकम्प मच गया। आरोप है कि इसी बीच उच्चाधिकारियों के निर्देश पर एसएचओ मय पुलिस बल मौके पर पहुंचे और बल पूर्वक गेट का ताला तोड दिया। आरोप है कि इस दौरान विरोध करने वाले छात्र-छात्रओं के साथ पुलिस ने अभ्रद व्यवहार किया तथा गंभीर धाराओं में जेल भेजने की धमकी दी। बाद में छात्रों का एक प्रतिनिधि मंडल इसके विरोध में तहसील मुख्यालय पहुंचा उन्होंने  एसडीएम ज्ञानेन्द्र सिंह व सीओ अनिल पांड़े के समक्ष पुलिस द्वारा की गई अभ्रद व्यवहार की शिकायत की। जिसपर जांच का आश्वासन देते हुए छात्रों के समक्ष विश्वविद्यालय के कुलपति से सीओ ने फोन पर वार्ता की।
इधर छात्रों की परेशानी को देखते हुए मंगलवार शाम विश्वविद्यालय ने एक सैक्शन (60-60 सीटे) बढ़ाने की घोषणा की। इस बात की पुष्टि करते हुए कालेज प्राचार्य आर.सी लाल ने बताया कि बीए प्रथम, बी.कॉम प्रथम, बीएसी प्रथम (गठित) में सीटे बढ़ाई गई है। प्राचार्य के अनुसार इन सैक्शनों में प्रवेश लेने की अंतिम तिथि चार अगस्त है। इन प्रवेश मैरिट लिस्ट के अनुसार ही लिए जाएगें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सीटे बढ़ाने की उम्मीद से छात्रों में खुशी की लहर