DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वनडे व टी20 के कारण अधिक आक्रामक हुआ टेस्ट: तेंदुलकर

वनडे व टी20 के कारण अधिक आक्रामक हुआ टेस्ट: तेंदुलकर

सचिन तेंदुलकर के 1989 में पदार्पण के बाद क्रिकेट में काफी बदलाव हुए हैं लेकिन इस महान बल्लेबाज को पिछले 20 बरस में जो सबसे बड़ा बदलाव नजर आता है वह टवंटी20 की लोकप्रियता के साथ टेस्ट क्रिकेट का अधिक आक्रामक होना है।

तेंदुलकर ने अपना पहला टेस्ट 1989 में पाकिस्तान के खिलाफ खेल और आज वह अपने 169वें मैच के साथ टेस्ट क्रिकेट में सर्वाधिक मैच खेलने वाले खिलाड़ी बने। श्रीलंका के खिलाफ तीसरे टेस्ट की शुरुआत से पहले जब तेंदुलकर से पूछा गया कि पिछले 20 बरस में क्या बदलाव आया है तो उन्होंने कहा कि लघु प्रारूपों ने कुछ हद तक टेस्ट क्रिकेट को प्रभावित किया है।

तेंदुलकर ने मौजूदा सीरीज के आधिकारिक प्रसारणकर्ता टेन स्पोटर्स से कहा कि पिछले बीस बरस में कई बदलाव हुए जिसका मैं हिस्सा रहा। एकदिवसीय क्रिकेट में भी बदलाव आए। टवंटी20 की शुरुआत के बाद टेस्ट क्रिकेट भी संभवत: अधिक आक्रामक हो गया। उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि बल्लेबाज अधिक जोखिम उठाने को तैयार हैं और यह संभवत: एकदिवसीय क्रिकेट और टवंटी20 की शुरुआत के कारण है।

इस 37 वर्षीय बल्लेबाज ने कहा कि पाकिस्तान में खेले अपने पहले टेस्ट के बाद उन्हें संदेह था कि वह सफल हो भी पाएंगे या नहीं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वनडे व टी20 के कारण अधिक आक्रामक हुआ टेस्ट: तेंदुलकर