अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इंटरनेट की लत से किशोरों में अवसाद का दोगुना खतरा

इंटरनेट की लत से किशोरों में अवसाद का दोगुना खतरा

इंटरनेट की लत का शिकार बन चुके किशोरों में अवसाद का खतरा दोगुने से भी ज्यादा होता है। एक अध्ययन में पहली बार दावा किया गया कि इसकी वजह से किशोरों में मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याएं पैदा हो सकती हैं।

समाचार पत्र 'डेली मेल' की रिपोर्ट के अनुसार पहले के अध्ययनों में यह पता नहीं लगाया जा सका था कि इंटरनेट पर कितने घंटे काम करने से अवसाद का खतरा पैदा हो सकता है। चीन में 15 वर्ष आयुवर्ग वाले 1 हजार किशोरों पर अवसाद और चिंता का अध्ययन किया गया।

''जब इंटरनेट नहीं प्रयोग कर रहे होते हैं तो कितनी बार अपने आपको अवसाद, चिड़चिड़ापन या बेचैनी से घिरा हुआ पाते हैं?,'' जैसे सवालों को इसमें शामिल किया गया। करीब छह फीसदी या 62 किशोरों को ऐसी श्रेणी में रखा गया जो इंटरनेट के उपयोग के चलते मामूली रूप से प्रभावित हैं जबकि 0.2 फीसदी या दो किशोरों में इससे गंभीर खतरा देखा गया।

नौ महीने बाद इनमें अवसाद और चिंता का दोबारा परीक्षण किया गया। आठ फीसदी से ज्यादा या 87 किशोर अवसाद की चपेट में आ गए थे। अध्ययनकर्ताओं ने कहा कि इंटरनेट की लत का शिकार बन चुके किशोरों में अवसाद  करीब ढ़ाई गुना ज्यादा खतरा रहता है।

ऑस्ट्रेलिया में सिडनी के स्कूल ऑफ मेडिसिन के लॉरेंस लाम और चीन में शिक्षा मंत्रालय के जी-वेन पेंग व गुआंगजोउ विश्वविद्यालय के सन यात-सेन ने इस अध्ययन का संचालन किया। लाम ने कहा, ''इसके निष्कर्ष से साफ है कि मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याओं से मुक्त किशोर यदि इंटरनेट की लत का शिकार हो जाते हैं तो उनमें बाद में ये समस्याएं पैदा हो सकती हैं।''

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इंटरनेट की लत से किशोरों में अवसाद का दोगुना खतरा