DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महंगी होने के बावजूद बढ़ रहे हैं शैंपेन के शौकीन

महंगी होने के बावजूद बढ़ रहे हैं शैंपेन के शौकीन

शैंपेन का नाम अक्सर जीत के जश्न के साथ जुड़ता है, फिर चाहे वह टीम इंडिया की जीत का जश्न हो या फिर किसी फिल्म की बॉक्स ऑफिस पर रिकॉर्ड सफलता का, शैंपेन खोलने और उसे एक-दूसरे पर छिड़कने का नज़ारा आम है।
   
इंडियन वाइन एसोसिएशन के अध्यक्ष सुभाष अरोड़ा का कहना है कि फ्रांस से आयातित होने और इस पर 150 प्रतिशत आयात शुल्क एवं अन्य कर लगने की वजह से शैंपेन की कीमत 4,000-5,000 रुपये पहुंच जाती है। महंगी होने के बावजूद देश में इसकी खपत सालाना करीब 10 प्रतिशत की दर से बढ़ रही है।
   
उन्होंने कहा कि होटलों में तो यह छह से सात हज़ार रुपये तक में उपलब्ध है। फिर भी लोग जश्न मनाने में शैंपेन की बोतल खोलने से परहेज़ नहीं करते। भारत में अभी इसकी बिक्री सालाना 20,000 पेटियों (एक पेटी में 12 बोतलें) की है।
   
अरोड़ा ने कहा कि शैंपेन का उपभोग सबसे अधिक मुंबई के लोग करते हैं और उसके बाद दिल्ली, बेंगलूरु और हैदराबाद में यह लोकप्रिय हो रही है। उन्होंने कहा कि शैंपेन की कीमत बहुत अधिक होने की वजह से भारत की कुछ ही कंपनियां इसका आयात करती हैं। इस तरह से देश में शैंपेन के केवल 15 से 20 ब्रांड ही उपलब्ध हैं।
   
उल्लेखनीय है कि शैंपेन एक किस्म की वाइन है जिसे खासतौर पर फ्रांस के शैंपेन इलाके में ही तैयार किया जाता है। शैंपेन के उत्पादन में चारडोने, पिनोट नायर और पिनोट म्यूनियर अंगूर का इस्तेमाल किया जाता है।

शैंपेन के प्रमुख ब्रांडों में चार्ल्स हेडसिएक, मोएट एंड चैंडन, डेलिग्नी गेरार्ड, पाइपर हेडसिएक, गेममिलेट, जोसेफ पेरियर, लेराउक्स मेन्यू, लारेन्ट पेरियर, प्रेस्टीज कूवी, टेइटिंगर आदि हैं।
   
उल्लेखनीय है कि फ्रांस की प्रीमियम वाइन कंपनी रेमी कोइंट्रू ने भारत में अपनी प्रीमियम वाइन की बिक्री के लिए हाल ही में नासिक स्थित सुला वाइनयाडर्स को अपना वितरक नियुक्त किया है। रेमी कोइंट्रू के पोर्टफोलियो में लुइस VIII, रेमी मार्टिन और पाइपर हेडसिएक जैसे प्रीमियम ब्रांड शामिल हैं।
   
रेमी कोइंट्रू के प्रबंध निदेशक (भारतीय उपमहाद्वीप) एक्न लूथरा का कहना है कि हमारा उद्देश्य भारत में अपने प्रीमियम ब्रांड उपलब्ध कराना है और चूंकि सुला भारत की नंबर एक प्रीमियम वाइन कंपनी है, इसलिए इसे हमने अपना आदर्श साझीदार बनाया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:महंगी होने के बावजूद बढ़ रहे हैं शैंपेन के शौकीन