DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विदेशों में भी दूर होगा दालों का संकट

मटर और अरहर की नई प्रजाति भारत ही नहीं दुनिया भर में दालों के संकट को दूर करेगी। कानपुर के भारतीय दलहन अनुसंधान संस्थान ने मटर की नई उन्नतशील प्रजाति खोजी है। आईपीएफ 4-9 नाम की मटर की न सिर्फ 18 फीसद ज्यादा पैदावार होगी बल्कि फसल में लगने वाले रोग से निपटने में भी सक्षम होगी। प्रदेश की प्रजाति विमोचन समिति ने इस पर मुहर लगाते हुए निर्यात के लिए सर्वश्रेष्ठ मटर करार दिया है। आईआईपीआर के वैज्ञानिकों के अनुसार अरहर की नई प्रजाति भी जल्द ही किसानों के लिए उपलब्ध हो जाएगी।


दालों के संकट के निपटने के लिए संस्थान के वैज्ञानिकों ने नई प्रजातियों को विकसित किया है। 5 साल के शोध के बाद डॉ. जीपी दीक्षित ने मटर की नई रोग प्रतिरोधक प्रजाति तैयार की है। आईपीएफ मटर चूर्णी कवक और रतुवा रोग से लड़ने में सक्षम होगी। इसको यूपी के साथ देश के किसी भी हिस्से में बोया जा सकेगा। मटर का प्रति हेक्टेयर 18 फीसद ज्यादा तक पैदावार हो सकेगी। कृषि विज्ञानियों की माने तो आईपीएफ मटर निर्यात के लिए भी सबसे ज्यादा मुफीद होगी। उनके मुताबिक अरहर की नई प्रजाति भी लगभग तैयार है। 7 साल के शोध के बाद विकसित हुई अरहर की नई प्रजाति से डेढ़ गुना ज्यादा तक पैदावार ली जा सकेगी। यह आने वाले दिनों में दाल के संकट को दूर करेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विदेशों में भी दूर होगा दालों का संकट